DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बंद रहा पश्चिमी सिंहभूम

चक्रधरपुर में भाजपा नेता प्रदीप साव की हत्या के विरोध में मंगलवार को भाजपा समेत अन्य दलों द्वारा आहूत पश्चिमी सिंहभूम बंद काफी असरदार रहा। बैंक समेत निजी और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे। वाहन नहीं चले। स्कूल-कॉलेज भी बंद रहे। हावड़ा-मुंबई रल मार्ग पर ट्रेनों का परिचालन सामान्य रहा, लेकिन बंद समर्थकों ने गुवा-टाटा पैसेंजर ट्रेन को चाईबासा में काफी देर तक रोके रखा। चाईबासा में भाजपा नेता बड़कुंअर गागराई के नेतृत्व में बंद समर्थक सुबह में बंद कराने निकले और दुकानों व अन्य प्रतिष्ठानों को बंद कराया। इस दौरान बंद समर्थकों और बड़ी बाजार के लोगों के बीच हल्की झड़प भी हुई, लेकिन एसपी सुधीर झा के प्रयास से स्थिति समान्य हो गया। चक्रधरपुर में भी सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। चक्रधरपुर से झरझरा, टोकलो, सोनुवा आदि क्षेत्रों को जाने वाले वाहन नहीं चले। जगह-ागह पर बेंच-टेबल लगाकर और टायर जलाकर मार्ग अवरुद्ध किया गया। इस दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम थे। जप, एनसीएफ, सीआरपीएफ और रैपिड एक्शन फोर्स को तैनात किया गया था। चक्रधरपुर में आठ स्थानों पर मजिस्ट्रेट के साथ सामान्य पुलिस बल को तैनात किया गया था। मनोहरपुर में आयरन ओर की ढुलाई प्रभावित हुई। हाटगम्हरिया, झींकपानी, नोवामुंडी एवं बड़ाजामदा में भी बंद असरदार रहा। नोवामुंडी और बड़ाजामदा में बंद समर्थकों ने निजी खदानों को भी प्रभावित किया। झाविमो, झामुमो और भाकपा माले ने बंद का समर्थन किया। बंद के दौरान कहीं से किसी प्रकार की अप्रिय घटना की सूचना नहीं है, न ही किसी की गिफ्तारी की खबर है। मुठभेड़ के वक्त दुमका से सम्पर्क में थे नक्सलीदुमका। 26 अप्रैल को शिकारीपाड़ा के पोखरिया में पुलिस-मोबाईल पर कॉल आना बंद हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बंद रहा पश्चिमी सिंहभूम