DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

78 साल बाद काशी से निकला टेस्ट क्रिकेटर

काशी के लिए सोमवार का दिन गर्व भरा रहा। बनारस (डीरेका) के कर्ण शर्मा का चयन भारतीय टेस्ट टीम में हुआ है। यह टीम आस्ट्रेलिया के खिलाफ चार दिसम्बर से होने वाले टेस्ट सीरीज में शिरकत करेगी। बनारस के लिए गर्व करने का दिन 78 वर्षो के बाद आया है। इसके पूर्व 1936 में विजयानगरम विज्जी ने भारतीय टीम की कमान संभालते हुए इंग्लैंड का दौरा भी किया।

डीरेका क्रिकेट संघ के सचिव व बैडमिंटन खिलाड़ी राकेश कोछड़ कर्ण के चयन पर बहुत उत्साहित हैं। कहते हैं कि 2004 मे जब कर्ण का चयन स्पोर्ट्स कोटा के तहत डीरेका में हुआ था तभी लग रहा था कि वह लंबी रेस का घोड़ा है। कर्ण की माता पूनम शर्मा बैडमिंटन और पिता हॉकी के खिलाड़ी रहे हैं।

कठिन परिश्रम का फल मिला
कर्ण की इस उपलब्धि पर टीम के पूर्व कोच कुलदीप खन्ना कहते हैं, ‘कर्ण के परिश्रम और खेल के प्रति लगन को देखते हुए मैं पहले से ही आश्वस्त था कि यह लड़का आगे जाएगा।’ डीरेका से जुड़ने के बाद कर्ण ने इंटर रेलवे के अपने पहले मैच में औसत गेंदबाजी की थी। बहुत रन गंवाये थे। कुलदीप कहते हैं कि इस प्रदर्शन को कर्ण ने गंभीरता से लिया। दो वर्षो तक गेंदबाजी, बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण में बहुत मेहनत की। क्षेत्ररक्षण में कर्ण अन्य खिलाड़ियों से अधिक समय देता था।

डीरेका के पूर्व क्रिकेटर राकेश मेहरोत्रा कहते हैं कि कर्ण की सरलता, खेल के प्रति इमानदारी, कठिन परिश्रम ने उसे इस मुकाम तक पहुंचाया है। राकेश ने उम्मीद जतायी है कि आस्ट्रेलिया की पिचों पर कर्ण की फ्लिपर बहुत कारगर रहेगी।

कर्ण शर्मा:-
जन्म- 23 अक्तूबर 1987 (मेरठ)
बाएं हाथ का मध्यक्रम का बल्लेबाज
दाएं हाथ का लेगब्रेक गेंदबाज
पहला रणजी मैच- 2007-08 में जम्मू-कश्मीर के खिलाफ
पहला टी20- 2014 में इंग्लैंड के खिलाफ
घरेलू टीम- रेलवे
आईपीएल- रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू, सनराईजर्स हैदराबाद

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:78 साल बाद काशी से निकला टेस्ट क्रिकेटर