DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नालों की सफाई से विभाग नाखुश

राजधानी के नालों की सफाई से नगर विकास एवं आवास विभाग संतुष्ट नहीं है। विभाग ने पटना नगर निगम को 31 मई से पहले सभी नालों की सफाई करने का निर्देश जारी किया है। राजधानीवासियों को आगामी बरसात में जलजमाव से मुक्त करने की कार्रवाई के तहत विभागीय मंत्री भोला सिंह खुद नालों की सफाई व्यवस्था का निरीक्षण कर रहे हैं। मंगलवार को कौटिल्यनगर एवं पटेल नगर स्थित बड़े नालों की सफाई व्यवस्था का निरीक्षण करने के बाद श्री सिंह ने बताया कि पटेल नगर नाले की सफाई ढंग से नहीं की जा रही है। अधिकारियों को इसके लिए आवश्यक निर्देश दिया गया है। कौटिल्यनगर नाले की सफाई के बाद उससे निकले गाद को सड॥क के किनार छोड़ देने से लोग बेहाल दिखे। सफाई करने वाली एजेंसी को तत्काल गाद हटाने का निर्देश जारी कर उसपर अमल कराया गया।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि पटेल नगर के गोकुल पथ में खुले नाले को दोबारा पाटने का निर्देश दिया गया है। राज्य जल पर्षद द्वारा पाटा गया नाला खराब गुणवत्ता होने के कारण टूट गया है। उन्होंने कहा कि न्यू राजधानी अंचल के अन्तर्गत 60 हजार फीट बड़ा नाला एवं 6000 फीट मध्यम नाला है जिनकी सफाई का निर्देश जारी किया गया है। बड़े नाला में पटेल नगर नाला को छोड़ बाकी नाले की सफाई टेंडर के माध्यम से निजी एजेंसी द्वारा करायी जा रही है। वहीं सभी मध्यम आकार के नालों की सफाई विभागीय स्तर पर की जा रही है। इसके साथ ही राज्य जल पर्षद के 20, पटना नगर निगम के 4 एवं पीएचइडी के एक कुल 25 सम्प हाउसों के ठीक करने की कार्रवाई चल रही है। इन 25 सम्प हाउस में कुल 73 पम्प हैं जिनमें 54 चालू अवस्था हैं। 31 मई के पहले बाकी को भी चालू करने की कार्रवाई की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नालों की सफाई से विभाग नाखुश