DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जोशी को नही मिला कोई भी गांव गोद लेने लायक

जोशी को नही मिला कोई भी गांव गोद लेने लायक

कानपुर शहर के भाजपा सांसद मुरली मनोहर जोशी अपने संसदीय क्षेत्र में कोई भी गांव गोद नही ले सकेंगे क्योंकि संवैधानिक व्यवस्था के तहत शहर में कोई गांव नहीं आ रहा है। इसलिये अब डा. जोशी ने आसपास के किसी अन्य संसदीय क्षेत्र में गांव ढूंढने और गोद लेने का फैसला किया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा सांसदों के एक गांव गोद लेने की घोषणा के बाद सांसद जोशी ने भारतीय जनता पार्टी की शहर इकाई को कानपुर शहर में कोई गांव ढूढने को कहा था। इस पर भाजपा नेताओं ने कई गांवों का दौरा किया लेकिन कोई भी गांव ऐसा न मिला जो संवैधानिक व्यवस्था के अन्तर्गत गोद लेने की श्रेणी में आ सकें।

भाजपा शहर अध्यक्ष सुरेन्द्र मैथानी ने बताया कि गांव गोद लेने के नियम है कि वह गांव मूलभूत सुविधाओं से वंचित होना चाहियें, गांव की आबादी तीन से पांच हजार के बीच होनी चाहियें तथा गांव में न्याय पंचायत की व्यवस्था होनी चाहिये।

उन्होंने कहा कि सांसद जोशी के निर्देश के अनुसार कई गांवो का दौरा किया गया जिनमें पनकी का सरायमीता और देहली सुजानपुरा को चुना लेकिन यह दोनो गांव संवैधानिक व्यवस्था पर गोद लेने की श्रेणी में नहीं आते है। क्योंकि कानपुर शहर के सभी गांव नगर निगम के अन्तर्गत आते है। इसके बाद जानकारी हासिल करने पर मालूम हुआ कि कानपुर शहर का कोई भी गांव गोद लेने की श्रेणी में नही आता है।

उन्होंने कहा कि इस बात की जानकारी सांसद जोशी को दे दी गयी है उन्होंने नेताओं से विचार-विमर्श के बाद कानपुर शहर के आसपास के किसी अन्य संसदीय क्षेत्र के किसी भी गांव को गोद लेने के लिये खोजने के आदेश दिये है। अब किसी अन्य संसदीय क्षेत्र में गांव गोद लेने के लिये ढूंढा जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जोशी को नही मिला कोई भी गांव गोद लेने लायक