DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजद को है जनाधार बटोरने की चुनौती

चुनाव में राजद के सामने अपना जनाधार बटोरने की चुनौती होगी। एकीकृत बिहार में पलामू और छोटानागपुर प्रमंडल जनता दल का जनाधार वाला क्षेत्र रहा है। जनता दल ने 1995 के चुनाव में इस इलाके के 14 सीटों पर कब्जा जमाया था। जनता दल से अलग होकर राष्ट्रीय जनता दल बना। इसके बाद 2000 में हुए चुनाव में भी राजद का दबदवा कायम रहा है। इस क्षेत्र से नौ विधायक चुनकर बिहार विधानसभा पहुंचे। उसी साल झारखंड अलग राज्य बन गया।

इस बार पार्टी यूपीए फोल्डर से अपनी ताकत बढ़ाने का प्रयास कर रही है। पलामू की छह सीटें मनिका, लातेहार, छतरपुर हुसैनाबाद, गढ़वा और भवनाथपुर राजद के खाते में गई है। भवनाथपुर सीट से अधिकृत प्रत्याशी धर्मेन्द्र प्रताप देव निर्वाची पदाधिकारी के पास विलंब से पहुंचने के कारण नामांकन नहीं कर पाए। पलामू की इन सभी सीटों पर पहले चुरण में चुनाव होना है, जहां कभी न कभी पार्टी का कब्जा रहा है।

वर्तमान में हुसैनबाद सीट कब्जे में है। वर्तमान विधायक संजय कुमार सिंह यादव यहां से चुनाव लड़ रहे हैं। गढ़वा सीट पिछली बार झाविमो ने छिन लिया था। गिरिनाथ सिंह पुन: इस सीट से किस्मत आजमा रहे हैं। राजद अपने कब्जे की पांच सीटों के अलावा कुल 20 सीटों पर दावेदारी कर रहा है। छह सीटों की घोषणा की जा चुकी है। बाकी पर गठबंधन में बातचीत चल रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजद को है जनाधार बटोरने की चुनौती