DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रणनीति से मिलेगी सफलता

रणनीति से मिलेगी सफलता

आवेदन की अं.ति.- 19 दिसंबर 2014
परीक्षा की तिथि - 01 मार्च 2015
भारत में औद्योगिक संस्थानों को संरक्षण, रक्षा तथा सुरक्षा प्रदान करने की जिम्मेदारी केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) पर है। साथ ही ये अग्नि से होने वाले नुकसान से भी बचाते हैं। इसीलिए इसे एक उत्कृष्ट अग्निशमन बल के रूप में जाना जाता है। यह बल विद्युत संयंत्रों, तेल शोधक कारखानों, पेट्रो रसायन, उर्वरक-इस्पात संयंत्रों, अंतरिक्ष केंद्रों सहित करीब 300 से भी ज्यादा यूनिटों को सुरक्षा उपलब्ध करा रहा है। इस बल के लिए हर साल नियुक्तियां निकाली जाती हैं। परीक्षा कराने की जिम्मेदारी यूपीएससी पर होती है। इस साल भी सहायक कमाण्डेंट (एग्जीक्यूटिव) एलडीसी एग्जाम के रूप में जल्द रिक्तियां घोषित होने वाली हैं। हालांकि यूपीएससी के कैलेंडर में आवेदन संबंधी तिथियां पहले ही दी हुई हैं। आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन होगी।

कब कर सकते हैं आवेदन
इसमें आवेदन के लिए वही उम्मीदवार योग्य हैं, जिन्होंने किसी मान्यताप्राप्त संस्थान से स्नातक की डिग्री हासिल की हो। यह विभागीय भर्ती परीक्षा है, इसलिए शैक्षिक योग्यता के अलावा उम्मीदवार सब इंस्पेक्टर (जीडी) या इंस्पेक्टर (जीडी) के रूप में चार साल की ड्य़ूटी बिना दण्डित हुए पूरा कर चुका हो। नियुक्ति के समय उसने एनसीसी ‘बी’ अथवा ‘सी’ सर्टिफिकेट भी प्रस्तुत किया हो। उम्मीदवार की आयु-सीमा भी निर्धारित की गई है। उसकी आयु 35 वर्ष से ज्यादा न हो।

चयन के चार चरण

सहायक कमांडेंट बनने के लिए उम्मीदवार को चार चरण की परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है-
लिखित परीक्षा
शारीरिक विवरण
मेडिकल एफिशिएंसी टेस्ट
पर्सनेलिटी टेस्ट/इंटरव्यू

इसमें लिखित परीक्षा पहले ही संपन्न करा ली जाती है। उसमें सफल होने के पश्चात शारीरिक विवरण परीक्षा और उसके पश्चात मेडिकल एफिशिएंसी टेस्ट में बैठने की अनुमति मिलती है।

लिखित परीक्षा दो पेपरों में
लिखित परीक्षा दो पेपरों के रूप में होती है। पहला पेपर 300 अंकों व 150 प्रश्नों का होता है तथा इसमें पूछे जाने वाले प्रश्न ऑब्जेक्टिव होते हैं। इसके अंतर्गत जनरल एबिलिटी एंड इंटेलिजेंस (75 प्रश्न व 150 अंक) और प्रोफेशनल्स स्किल्स (75 प्रश्न व 150 अंक) के प्रश्न आते हैं तथा इसके लिए ढाई घंटे का समय निर्धारित है। प्रश्नों का माध्यम हिन्दी व इंग्लिश दोनों होता है। दूसरा पेपर एस्से, प्रेसी राइटिंग व कॉम्प्रीहेंशन का होता है। इसके लिए 100 अंक तथा दो घंटे निर्धारित होते हैं। दूसरे पेपर के प्रश्नों का स्वरूप डिस्क्रिप्टिव होता है। एस्से राइटिंग सेक्शन के प्रश्न हिन्दी व इंग्लिश में तथा कॉम्प्रीहेंशन व प्रेसी राइटिंग के उत्तर अंग्रेजी में देने होते हैं।

नेगेटिव मार्किंग से सावधान
इस परीक्षा में गलत उत्तर दिए जाने पर नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान है, इसलिए उत्तर देते समय सावधानी बरतें। कहने का तात्पर्य यह है कि जिन प्रश्नों को लेकर आपको भ्रम है, उसे छोड़ कर आगे बढ़ जाएं। हो सकता है जब दोबारा आप उन प्रश्नों को देखें तो उनका उत्तर आपको याद आ जाए। यदि कुछ प्रश्नों के उत्तर दे पाने में असमर्थ हों तो भी घबराएं नहीं, बल्कि आगे के सेक्शन को देखें।

प्रेजेंस ऑफ माइंड से बनेगी बात
जनरल एबिलिटी सेक्शन के कुछ प्रश्न लॉजिकल रीजनिंग, क्वांटिटेटिव एप्टिटय़ूड, न्यूमेरिकल एबिलिटी एवं डाटा इंटरप्रिटेशन से होते हैं। इसके लिए प्रेजेंस ऑफ माइंड की दरकार होती है और यह तभी संभव हो पाता है, जब आप उन प्रश्नों की रेगुलर प्रैक्टिस करें। नियमित रूप से 3-4 घंटे के अभ्यास से भी आप सब्जेक्ट पर पकड़ बना सकते हैं।

करेंट अफेयर्स मजबूत रखें
कुछ प्रश्न जनरल साइंस (साइंटिफिक टेम्पर, आईटी, बायोटेक्नोलॉजी, एन्वायर्नमेंटल साइंस) एवं करेंट अफेयर्स से होते हैं। इसके लिए प्रतिदिन न्यूज पेपर-मैगजीन, रिसर्च रिपोर्ट, खोज, समसामयिक घटनाओं से अवगत होते रहें। बारहवीं स्तर की साइंस की कुछ किताबों का अध्ययन भी आपको मदद पहुंचा सकता है।

निबंध लिखने का अभ्यास करें
दूसरे पेपर के ज्यादा अंक के सवाल केवल एस्से राइटिंग से आते हैं, इसलिए प्रतिदिन निबंध लिखने का अभ्यास करें। इस संदर्भ में कुछ महत्वपूर्ण विषय जैसे आधुनिक भारत का इतिहास, पॉलिसी एंड इकोनॉमी, सिक्योरिटी एवं मानव अधिकार का ज्ञान, स्वतंत्रता संग्राम, भूगोल आदि सुझाए जा सकते हैं। यह भी सत्य है कि निबंध के प्रश्न कहीं से भी पूछे जा सकते हैं।

शारीरिक दक्षता परीक्षा भी अहम
लिखित परीक्षा में सफल होने के पश्चात बारी आती है शारीरिक दक्षता परीक्षण की। इसके अंतर्गत 100 एवं 800 मीटर की दौड़, लंबी कूद, ऊंची कूद, गोला फेंकना आदि परीक्षण संबंधी कार्य कराए जाते हैं। इनकी समय सीमा महिलाओं तथा पुरुषों में अलग-अलग होती है। इसके पश्चात उन्हें मेडिकल टेस्ट के लिए भेजा जाता है। लिखित परीक्षा की तैयारी के साथ-साथ उम्मीदवार को प्रवेश पत्र का इंतजार किए बिना फिजिकल की तैयारी भी शुरू कर देनी चाहिए।

इंटरव्यू एवं अंतिम सूची
मेडिकल टेस्ट में सफल होने के पश्चात उम्मीदवार को इंटरव्यू अथवा पर्सनेलिटी टेस्ट के लिए बुलाया जाता है। यह पर्सनेलिटी टेस्ट 200 अंकों का होता है। बाद में उनकी योग्यता सूची जारी की जाती है, जो लिखित परीक्षा, फिजिकल तथा इंटरव्यू आदि में प्राप्त किए गए अंकों के आधार पर बनाई जाती है। 

ऑनलाइन आवेदन और परीक्षा के पैटर्न की जानकारी के लिए यूपीएससी की वेबसाइट www.upsc.gov.inwww.upsconline.nic.in विजिट करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रणनीति से मिलेगी सफलता