DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एमबीए में कार्य अनुभव का होता है महत्व

एमबीए में कार्य अनुभव का होता है महत्व

बीएएमएस के बाद एमडी या हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन या हेल्थकेयर मैनेजमेंट के अलावा क्या अच्छे करियर ऑप्शंस हैं? क्या किसी अन्य स्ट्रीम के जरिए बढिया करियर विकल्प संभव है? कृपया मार्गदर्शन कीजिए।
प्रसाद प्रणब

आजकल पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ रहे स्पा और हेल्थ सेक्टर में क्वालिफाइड आयुर्वेद प्रोफेशनल्स की डिमांड बहुत है। प्रशिक्षित और क्वालिफाइड मेडिकल प्रोफेशनल्स, जिनके पास बीएएमएस या बीपीसी की डिग्री है, उन्हें आज आयुर्वेद डॉंक्टर के तौर पर अच्छे सेलरी पैकेज पर जॉब मिल रही है। हालांकि प्राथमिकता ऐसे आयुर्वेद प्रोफेशनल्स को मिल रही है, जिन्हें स्पा थेरेपीज का ज्ञान है और जो इंटरनेशनल लेवल पर इसकी प्रैक्टिस कर रहे हैं।

इस अवसर का बढिया लाभ उठाने के लिए आप इंटरनेशनल स्पा थेरेपी का कोर्स कर सकते हैं। इससे आपको स्पा मैनेजमेंट के साथ-साथ स्पा और वेलनेस सेंटर पर न सिर्फ काम करने का ज्ञान होगा, बल्कि उन्हें किस तरह मैनेज किया जाता है, इसकी भी जानकारी हो जाएगी।
सीआईबीटीएसी और आईटीईसी कोर्स ऑफर कराने वाले इंस्टीटय़ूट्स ऐसे कोर्सो का संचालन करते हैं। हैदराबाद का आनंदा स्पा इंस्टीटय़ूट इनमें से एक है। आप इसके बारे में उनकी वेबसाइट www.anandaspainstitute.com पर लॉगिन कर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

क्या बिना कार्य अनुभव के एमबीए करना उचित रहेगा?
अजय

नहीं, क्योंकि एमबीए करना समय की एक बड़ी इन्वेस्टमेंट है। वैसे बी स्कूल्स में एमबीए में एडमिशन के लिए वर्क एक्सपीरियंस का होना आवश्यक नहीं होता, पर इससे आपको बढिया मैनेजमेंट कॉलेज में एडमिशन लेने में फायदा होता है। सबसे प्रतिष्ठित एग्जाम कैट के एडमिशन फॉर्म में वर्क एक्सपीरियंस के लिए स्पेशल कॉलम होता है।

जहां कुछ साल पहले सिर्फ अच्छी शैक्षणिक क्षमता ही प्रतिष्ठित संस्थान में एडमिशन पाने के लिए पर्याप्त होती थी, वहीं अब तमाम मैनेजमेंट कॉलेज अभ्यर्थी से वर्क एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट की भी मांग करते हैं।

माना जाता है कि बढिया वर्क रिकॉर्ड वाले स्टूडेंट्स को फ्रेशर्स की अपेक्षा अधिक महत्व मिलता है, क्योंकि उन्हें व्यवहारिक ज्ञान भी होता है और वे नई तकनीक और नए आयामों को ज्यादा बेहतर तरीके से समझ सकते हैं। वैसे कंपनियां भी फ्रेशर्स एमबीए की अपेक्षा कार्य अनुभव वाले मैनजमेंट स्टूडेंट्स को तरजीह देती हैं, क्योंकि उनका मानना है कि ये लोग बिजनेस और क्लाइंट की चाहत को बेहतर समझते हैं। लेकिन हां जरूरत से अधिक कार्य अनुभव नुकसानदेह भी हो सकता है। कुछ कंपनियां रिक्रूटमेंट के समय स्फूर्ति और एनर्जी पर ध्यान देते हुए यंग प्रोफेशनल्स को मौका देने की इच्छुक रहती हैं। साथ ही काम के अनुभव के चलते आप जब किसी बड़ी कंपनी में इंटरव्यू देते हैं तो यह एक स्वाभाविक सवाल पूछा जा सकता है कि आपने एमबीए ही क्यों चुना।

केस स्टडीज पर अध्ययन करते समय भी आप मैनेजीरियल और प्रोफेशनल समस्याओं को अच्छी तरह से डील कर सकते हैं। वर्क एक्सपीरियंस का बड़ा फायदा ये भी होता है कि ये थियोरॉटिकल और प्रैक्टिकल के बीच एक पुल का काम करता है। ये आपको आपके उद्देश्यों के प्रति स्पष्ट तौर पर एक सोच विकसित करने में मददगार रहता है। कुल मिला कर यह आपके एमबीए को एक सकारात्मक रुख प्रदान करता है।

बीकॉम करने के बाद मैं मास कम्युनिकेशन की फील्ड में जाना चाहता हूं, क्योंकि मैं गणित और अकाउंट्स में बहुत कमजोर हूं, इसलिए मुझे फाइनेंस सेक्टर में अपना भविष्य उज्ज्वल नहीं दिखता। क्या मैं सही सोच रहा हूं? कृपया मेरा मार्गदर्शन कीजिए।
श्रंगार जैन

मास कम्युनिकेशन बहुत बड़ा क्षेत्र है, जिसमें कई सेक्टरों जैसे एडवरटाइजिंग, जर्नलिज्म, पब्लिक रिलेशन, सिनेमा, रेडियो, टेलीविजन, ब्रॉडकास्टिंग, थियेटर, कम्युनिकेशन आर्ट आदि का समावेश है। अब इसमें डिजिटल और इंटरनेट भी बड़े स्तर पर जुड़ गया है। हालांकि संवाद अभी भी इसका मूल तत्व है, लेकिन काम की प्रकृति आपके द्वारा चयनित फील्ड से ही तय हो पाएगी। मास कम्युनिकेशन कोर्स आपको इससे संबंधित हरेक फील्ड के बारे में जानकारी देता है, उसके बाद आप अपनी क्षमता और रुचि अनुसार किसी एक क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं।

आप प्रिंट मीडिया, रेडियो, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया या फिर डिजिटल मीडिया की ओर रुख कर सकते हैं। आपके लिए यहां अखबार, मैगजीन, टीवी चैनलों, रेडियो एफएम चैनलों, न्यूज एजेंसी, सूचना और प्रसारण मंत्रालय, प्रसार भारती, डीएवीपी, जनसंपर्क विभाग (सरकारी, प्राइवेट, कॉरपोरेट) में नौकरी की प्रबल संभावनाएं हैं। साथ ही आप फ्रीलांसर के तौर पर भी इस संस्थानों से जुड़ सकते हैं।

हमारा पता
आप भी अपने सवाल इस पते पर भेज सकते हैं। सलाह, नई दिशाएं, हिन्दुस्तान, आकृति बिल्डिंग, सी-164, सेक्टर-63, नोएडा, गौतम बुद्ध नगर-201 301,उ.प्र.

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एमबीए में कार्य अनुभव का होता है महत्व