DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बागपत में कोचिंग सेंटर चलाता है एसएससी पेपर लीक कराने वाले वाला

मेरठ के दो भाइयों ने क्लर्क की सरकारी नौकरी पाने के लिए अपनी सात बीघा जमीन तक गिरवी रख दी। लेकिन, परीक्षा से पहले राज खुलने से उनके मंसूबे नाकामयाब हो गये।

बीती दो नवंबर को आयोजित एसएससी परीक्षा में एमबीपीजी कॉलेज में तीन नकलची पकड़े गये थे। जिसके बाद रविवार को हल्द्वानी के 12 परीक्षा केन्द्रों में काफी सख्ती की गई थी। दोनों पालियों में दस नकलचियों के पकड़े जाने के बाद से पूरी व्यवस्था पर सवाल उठने लगा है। डीएवी स्कूल में मोबाइल के साथ पकड़े गये बागपत निवासी सौरभ धामा ने पूछताछ में कई चौंकाने वाले राज खोले हैं। उसने बताया कि मेरठ में एक कोचिंग संस्थान का संचालक पंकज धामा ने उसे एसएससी की परीक्षा पास कराने के बदले मोटी रकम मांगी थी। सौरभ ने खुद और अपने भाई की नौकरी के लिए अपनी पुस्तैनी सात बीघा जमीन भी गिरवी रख दी थी।

नौकरी लगने के बाद जमीन देने की बात हुई थी। जिसके बाद पंकज ने उसे पेपर भी उपलब्ध करा दिया था। कैसे उसके पास आंसर सीट पहुंची इस बारे में पंकज ने उसे कुछ नहीं बताया।

 पूछताछ में पक्के प्रमाण मिलने के बाद एसडीएम ने कुसुमखेड़ा स्थित हरगोविंद सुयाल में परीक्षा देने पहुंचे सौरभ के सगे भाई को भी प्रपत्र पूरे न होने के कारण परीक्षा में नहीं बैठने दिया।


‘‘पेपर लीक होने की घटना से इंकार नहीं किया जा सकता। जो भी अभ्यर्थी अब तक नकल करते हुए पकड़ में आए हैं। वह परीक्षा केन्द्र में सुनियोजित तरीके से पहुंचे थे। मामले की जांच की जा रही है।’’

हरवीर सिंह, एसडीएम हल्द्वानी


यूपी से तैयार हो रही है कि नकल की पर्ची

 कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह के तार दिल्ली, हरियाणा के बाद अब यूपी के मेरठ से जुड़ गया है। नकल करते पकड़े गए अभ्यर्थी ने बताया कि मेरठ में कोचिंग संस्थान चलाने वाला पंकज अब तक कई युवाओं की मोटी रकम लेकर नौकरी लगा चुका है। इस परीक्षा में कई ऐसे अभ्यर्थी हैं जो पंकज के संपर्क में थे वह परीक्षा में पकड़ में नहीं आ पाए।

आखिर किसने खोला नकल का राज
 डीएवी कॉलेज के प्रधानाचार्य को एक युवक ने बागपत से पत्र भेजा था। इसमें उसने परीक्षा केन्द्र में नकल होने की पहले ही सूचना दे दी थी। उसने कुछ छात्रों के इसमें नंबर भी दिए थे। इसकी जानकारी प्रधानाचार्य ने शनिवार को ही एसडीएम को दे दी थी। जब रविवार को चेकिंग की गई तो यह बात सच निकली।

पैंट की तुरपन में छुपाई पर्ची
 रविवार को जिन अभ्यर्थियों के पास नकल पकड़ी गई। वह पेंट की तुरपन फाड़ कर उसमें नकल पर्ची लाए थे। जबकि एक अभ्यर्थी ने परीक्षा छूटने से करीब पन्द्रह मिनट पहले ही आंसर सीट में एकाएक प्रश्नों के जवाब भरे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बागपत में कोचिंग सेंटर चलाता है एसएससी पेपर लीक कराने वाले वाला