DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

काशी प्रवास से मिली ऊर्जा का उपयोग सदस्यता अभियान में

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के काशी प्रवास से मिली ऊर्जा और जोश का उपयोग अब सदस्यता अभियान को गति देने में होगा। भाजपा ने खाका बना लिया है। काशी क्षेत्र को छोड़कर प्रदेश के अन्य जिलों में अभियान के लिए बैठकें शुरू हो चुकी है। पीएम के आगमन के कारण काशी क्षेत्र में अभियान पिछड़ गया। अब शुरुआत होगी। क्षेत्र के 14 जिलों में 5 लाख नए लोगों को पार्टी से जोड़ने का लक्ष्य है। इसमें डिजिटल सदस्यता की संख्या नहीं होगी। उसका ब्योरा अलग से रखा जाएगा।

प्रधानमंत्री ने डीरेका मैदान पर जोश भरा कि सदस्यता की दृष्टि से काशी को प्रदेश में नंबर एक पर ले जाना है। उनका आान संसदीय क्षेत्र के कार्यकर्ताओं से था मगर उसका संदेश काशी क्षेत्र में गया है। क्षेत्रीय अध्यक्ष लक्ष्मण आचार्य ने बताया कि 14 जिलों के 428 मंडलों में सदस्य बनाने की तैयारी हो चुकी है। क्षेत्र से मंडल स्तर तक प्रभारियों की नियुक्ति हो गई है। भाजपा का उत्साह निराधार नहीं है। विगत 25 अगस्त से 25 सितंबर के बीच विशेष अभियान चला। उसमें युवा मोर्चा के अलावा महिला व सामाजिक न्याय मोर्चा को ही लगाया गया था। लक्ष्य 1.51 लाख लोगों को सदस्य बनाने का था। बने 1.80 लाख से अधिक। लक्ष्मण आचार्य ने बताया कि इस बार के अभियान में मूल संगठन के साथ सभी मोर्चा-प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं को जुटना है। उनके लिए अलग-अलग क्षेत्र और तिथि तय की गई है। अभियान के दौरान पार्टी पदाधिकारियों को गांवों में रात्रि प्रवास भी करना है।

कब किसे चलाना है सदस्यता अभियान
युवा मोर्चा : 25 से 30 नवंबर (शिक्षण संस्थान, माल, सिनेगृह, होटल रेस्टोरेंट)
महिला व किसान मोर्चा : 23 से 27 नवंबर (महिला छात्रवास, महाविद्यालय, गांव)
अल्पसंख्यक मोर्चा : 20 से 22 नवंबर
विधि, आरटीआई प्रकोष्ठ : 19 से 21 नवंबर (कचहरी एवं तहसील)
स्थानीय निकाय, सामाजिक न्याय, अंत्योदय प्रकोष्ठ : 27 नवंबर से 3 दिसंबर
सहकारिता, समाज कल्याण प्रकोष्ठ : 8 से 10 दिसंबर
चिकित्सा, कार्यकर्ता सहायता प्रकोष्ठ : 11 से 14 दिसंबर (अस्पताल, नर्सिग होम)
अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ : (21 से 27 नवंबर)
श्रम प्रकोष्ठ : (17 से 19 दिसंबर)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:काशी प्रवास से मिली ऊर्जा का उपयोग सदस्यता अभियान में