DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कभी लालू के हनुमान रहे राम कृपाल बने मोदी के मंत्री

कभी लालू के हनुमान रहे राम कृपाल बने मोदी के मंत्री

किसी जमाने में हर अच्छे बुरे दौर और सुख दुख में लालू प्रसाद के बेहद करीबी रहे और राजद प्रमुख के हनुमान कहलाने वाले रामकृपाल यादव के लिए लोकसभा चुनाव से पूर्व बगावत कर भाजपा में शामिल होना किसी वरदान से कम नहीं रहा और आज नरेन्द्र मोदी मंत्रिमंडल में शामिल होने के बाद यह वरदान फलीभूत हो गया।

रामकपाल यादव ने बिहार की पाटलीपुत्र सीट से लालू की बेटी मीसा भारती को हराया था। इससे पूर्व केंद्र की तो बात ही छोड़ दीजिए वह कभी राज्य में भी मंत्री नहीं बने थे लेकिन आज उन्हें मोदी मंत्रिपरिषद में शामिल कर लिया गया।

केंद्रीय मंत्रिपरिषद में रामकपाल को शामिल किए जाने को भाजपा की अगले साल बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव से पूर्व लालू प्रसाद के यादव वोट बैंक में सेंध लगाने की रणनीति के रूप में देखा जा रहा है।

बिहार में यादव समुदाय वोटों में 12 फीसदी से अधिक की भागीदारी रखता है और यह अब तक खुद को लालू प्रसाद के साथ चिन्हित करता आया है । लेकिन भाजपा ने हालिया लोकसभा चुनाव में लालू के इस मजबूत वोट बैंक में सेंध लगा दी है जहां उसने प्रधानमंत्री की चाय बेचने वाले और पिछड़ा वर्ग से होने की छवि को बेहद सफल तरीके से पेश किया।

पाटलीपुत्र से राजद द्वारा टिकट से इंकार किए जाने के बाद रामकृपाल अपने गुरु से अलग हो गए थे । वह भले ही भाजपा से पहली बार सांसद बने हों लेकिन चुनावी राजनीति में वह नौसिखिए नहीं हैं। मई 2014 के आम चुनाव के जरिए उन्होंने लोकसभा में चौथी बार प्रवेश किया है । पिछले तीन चुनाव उन्होंने राजद के टिकट पर जीते थे ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कभी लालू के हनुमान रहे राम कृपाल बने मोदी के मंत्री