DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अहिर को जन्मदिन पर मिला मंत्री पद का तोहफा

अहिर को जन्मदिन पर मिला मंत्री पद का तोहफा

महाराष्ट्र के भाजपा सांसद हंसराज गंगाराम अहिर को नरेंद्र मोदी मंत्रिपरिषद के पहले विस्तार में बतौर राज्य मंत्री जगह दी गई है। ऐसा लगता है कि कोयला खदान आवंटन में अनियमितताओं का खुलासा करने का उन्हें ईनाम मिला है।

कोयला घोटाले का खुलासा करने का श्रेय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर के साथ अहिर को भी जाता है। चुनावी अभियान में भाजपा के लिए यह घोटाला बड़ा मुद्दा रहा। बाद में उच्चतम न्यायालय ने 214 कोयला खदानों का आवंटन रद्द कर दिया।

अहिर के जरिए कोयला खदानों के आवंटन में अनियमितता का मुद्दा पहले कोयला एवं इस्पात मामले की संसदीय समिति और बाद में केंद्रीय सतर्कता आयोग के समक्ष लाया गया। बाद में जावडेकर भी उनके साथ जुड़े और यह एक बड़ा मुद्दा बना।

वह साल 1994-96 में महाराष्ट्र विधान परिषद के सदस्य रहे और फिर 1996 में 11वीं लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए। अहिर को 14वीं लोकसभा के अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी ने सांसदों के लिए आर्दश करार दिया था। वह संसद की कई समितियों के सदस्य रहे हैं। एक सितंबर, 2014 से वह कोयला एवं इस्पात पर स्थायी समिति के अध्यक्ष रहे हैं।

महाराष्ट्र के नांदेड़ में 11 नवंबर, 1954 को जन्मे अहिर के दो बेटे और एक बेटी हैं। वह पेशे से किसान हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अहिर को जन्मदिन पर मिला मंत्री पद का तोहफा