DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुरेश प्रभु बने नये रेल मंत्री

सुरेश प्रभु बने नये रेल मंत्री

अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में केंद्रीय कैबिनेट में अपनी सेवाएं देने के बाद शिवसेना नेता और पेशे से चार्टर्ड एकाउंटेंट रहे सुरेश प्रभु आज एक बार फिर राजग की केंद्र सरकार में शामिल हो गए। वाजपेयी सरकार में विद्युत मंत्रालय के कामकाज को नयी दिशा देकर उन्होंने काफी वाहवाही बटोरी थी।

तटीय कोंकण क्षेत्र से आने वाले 61 वर्षीय बैंकर से नेता बने प्रभु प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नजरों में चढ़े हुए थे। विद्युत क्षेत्र में बदलाव के लिए बनाए गए सरकारी पैनल बिजली, कोयला और नवीकरणीय ऊर्जा विकास संबंधी सलाहकार समूह के प्रमुख पद पर उन्हें नियुक्त किए जाने से ही यह संकेत मिल रहे थे कि वह मोदी की गुड बुक में हैं।

प्रभु को ब्रिस्बेन में होने वाली समूह 20 की शिखर बैठक में प्रधानमंत्री की सहायता के लिए मोदी का शेरपा भी नियुक्त किया गया है। महाराष्ट्र की राजनीति में पहले से ही ऐसी खबरें चल रही थीं कि राज्य के विधानसभा चुनाव से पूर्व भाजपा और शिवसेना, दोनों पूर्व सहयोगियों के बीच बने गतिरोध के बावजूद मोदी प्रभु को केंद्र में देखना चाहते हैं।

प्रभु कोंकण क्षेत्र की राजापुर लोकसभा सीट से 1996 से 2009 के बीच चार बार सांसद रह चुके हैं । वह 2009 के आम चुनाव में हालांकि हार गए थे । यह वही निर्वाचन क्षेत्र है जिसका प्रतिनिधित्व कभी जनता पार्टी नेता दिवंगत मधु दंडवते किया करते थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सुरेश प्रभु बने नये रेल मंत्री