DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आखिर वक्त हुआ मेहरबान: बिरेन्द्र सिंह बने मंत्री

आखिर वक्त हुआ मेहरबान: बिरेन्द्र सिंह बने मंत्री

हरियाणा के कद्दावर जाट नेता चौधरी बिरेन्द्र सिंह के साथ किस्मत ने कई बार दगा किया लेकिन इस बार वक्त उन पर मेहरबान रहा और वह केंद्र की भाजपा की अगुवाई वाली राजग सरकार में मंत्री बनने में सफल रहे।

वर्ष 2004 में वह हरियाणा के मुख्यमंत्री बनने की दौड़ में थे लेकिन बाजी भूपेन्द्र सिंह हुडडा के हाथ रही। वर्ष 2010 में मनमोहन सिंह सरकार में भी अंतिम क्षणों में वह मंत्रिमंडल में शामिल होने से रह गए।

पूर्व कांग्रेसी नेता बिरेन्द्र सिंह का मोदी सरकार में शामिल होना उनके लंबे राजनीतिक कैरियर का एक बेहद सुखद और दुर्लभ खुशी का क्षण है। अपने लंबे राजनीतिक कैरियर में उन्हें हुडडा और इंडियन नेशनल लोकदल के ओम प्रकाश चौटाला जैसे जाट नेताओं की छाया में रहने को मजबूर होना पड़ा था।

लेकिन इस बार हरियाणा विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन का सबसे बड़ा दांव चला और कांग्रेस से चार दशकों का नाता तोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया । यह दांव उनके लिए फायदेमंद रहा और भाजपा के राज्य की सत्ता में आने के साथ ही उनकी पत्नी भी विधायक का चुनाव जीतने में सफल रहीं।

उत्तर भारत के प्रख्यात किसान नेता सर छोटू राम के पौत्र 68 वर्षीय चौधरी बिरेन्द्र सिंह राज्य विधानसभा में चार बार विधायक रहे हैं और हरियाणा में तीन बार कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आखिर वक्त हुआ मेहरबान: बिरेन्द्र सिंह बने मंत्री