DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्यसभा सदस्य के दिए चेक हो गए बाउंस

राज्यसभा सदस्य के दिए चेक हो गए बाउंस

चचेरी बहनों की हत्या के बाद नेताओं की ओर से पीड़ित परिवारों को दी गई सहायता राशि में से एक लाख रुपये की चपत परिजनों को लग गई। महाराष्ट्र से राज्यसभा सदस्य रामदास अथावले की ओर से परिजनों को दिए गए 50-50 हजार रुपये के दो चेक बाउंस हो गए हैं। पीड़ित परिवार का आरोप है कि चेक बाउंस होने की जानकारी उन्हें तीन महीने बाद बैंक प्रबंधक ने दी और चेक लौटा दिए। जबकि बैंक प्रबंधक का पक्ष है कि दोनों चेक उन्हें जुलाई में वापस कर दिए थे।

कटरा कांड के बाद बदायूं पूरे देश की राजनीति की धुरी बन गया था। कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी समेत बसपा सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती और भाजपा के दिग्गज पूर्व सीएम कल्याण सिंह ने भी कटरा का दौरा किया था। भाजपा और बसपा की ओर से पीड़ित परिवारों को 10-10 लाख रुपये बतौर आर्थिक सहायती दी गई थी। जबकि अन्य दलों ने भी तकरीबन एक लाख रुपये दोनों परिवारों को दिए थे। महाराष्ट्र के राज्यसभा सदस्य रामदास अथावले 12 जून को कटरा पहुंचे और पीड़ित परिवार का दर्द बांटा था। अथावले की ओर से दोनों किशोरियों के पिता को 50-50 हजार रुपये के दो चेक दिए गए थे। एचडीएफसी बैंक के ये चेक बाउंस हो चुके हैं।

13 जून को कैश कराने डाले थे बैंक में
पीड़ित परिवार का कहना है कि आर्थिक सहायता की धनराशि उन्होंने गांव की सर्वयूपी ग्रामीण बैंक में जमा कर दी थी। अथावले की ओर से मिले दोनों चेक 13 जून को बैंक में कैश कराने के लिए डाल दिए थे। इसके बाद बैंक प्रबंधन ने यह सुध नहीं ली कि चेक का क्या है। जबकि 25 अक्टूबर को मैनेजर राजेश मिश्रा ने यह कहकर चेक लौटा दिए कि वे वाउंस हो चुके हैं। चूंकि तीन महीने बाद यह जानकारी परिजनों को मिली है, ऐसे में इन चेकों का टाइम भी वार्ड हो चुका है।

25 जून को हुए थे वाउंस
शाखा प्रबंधक ने बताया कि चेक 25 जून को वाउंस हो गए थे। इसके बाद जुलाई में परिवार वालों को चेक लौटा दिए गए। अक्टूबर में चेक वापस करने का कोई औचित्य नहीं बनता। परिजनों का आरोप गलत है।

बड़ी बेटी के पिता ने की रकम ट्रांसफर
बड़ी बेटी के पिता के खाते में तकरीबन 10 लाख 50 हजार रुपये थे। जबकि बीती चार सितंबर को उन्होंने अपनी पत्नी का खाता इसी बैंक में खुलवाया और पांच सितंबर को नौ लाख 75 हजार रुपये इस खाते में ट्रांसफर कर दिए। ऐसे में बड़ी बेटी के पिता के खाते में वर्तमान में 17 हजार 747 रुपये बचे हैं। जबकि छोटी के पिता के खाते में सात लाख 81 हजार रुपये शेष हैं।

चेक वाउंस होने के बाद बैंक अपने पास उन्हें क्यों रखेगी। जुलाई में ही हमने यह जानकारी परिजनों को देने के साथ चेक लौटा दिए थे।
राजेश मिश्रा, शाखा प्रबंधक सर्वयूपी ग्रामीण बैंक कटरा

मैंने दोनों चेक एक कार्यकर्ता से उसके खाते के दिलवाए थे। अगर वे वाउंस हो गए हैं तो कोई बात नहीं। 24 नवंबर से संसद का सत्र शुरू होने जा रहा है। मैं वहां भी वहां आऊंगा। परिजन वहां मुझसे यह रकम ले सकते हैं।
रामदास अथावले, सदस्य राज्यसभा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राज्यसभा सदस्य के दिए चेक हो गए बाउंस