DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिवसेना को लेकर असमंजस बरकरार

शिवसेना को लेकर असमंजस बरकरार

मोदी सरकार के मंत्रिमंडल के पहले विस्तार में शिवसेना के शामिल होने को लेकर असमंजस बरकरार है। माना जा रहा है कि महाराष्ट्र में भाजपा से गठबंधन को लेकर फंसे पेंचों के न सुलझने से मामला फिर अटक गया है।

शिवसेना के सूत्रों का कहना है कि रविवार सुबह पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे विधायकों और वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक करके कोई अंतिम निर्णय करेंगे। शिवसेना को आशंका है कि अगर महाराष्ट्र में उचित हिस्सेदारी मिले बिना वह सरकार में शामिल हुई तो नेता विपक्ष का पद भी उसके हाथ नहीं आएगा। अगर वह केंद्र में नया मंत्रिपद स्वीकार कर लेती है तो उसका महाराष्ट्र में गठबंधन में शामिल न होने का फैसला करने का नैतिक साहस भी नहीं रहेगा।

सूत्रों का यह भी कहना है कि शिवसेना उसके नेता सुरेश प्रभु को बिना उसकी सिफारिश के केंद्र सरकार में शामिल किए जाने की संभावनाओं को लेकर भी नाराज है। इससे पहले शनिवार शाम को खबरें आईं थीं कि शिवसेना के राज्यसभा सदस्य अनिल देसाई मोदी सरकार में मंत्री बनेंगे। लेकिन देर रात को दोनों पक्षों में एक बार फिर गतिरोध दिखा।

फडणवीस ने की थी उद्धव से बात
महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस की सरकार 12 नवंबर को विधानसभा में विश्वास मत का प्रस्ताव रखने वाली है। ऐसे में शिवसेना और एनसीपी के नेताओं में बैठक की खबरों के बीच मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उद्धव से फोन पर बात भी की थी। शिवसेना सूत्रों ने कहा कि फडणवीस ने कहा कि वह चाहते हैं कि शिवसेना नई सरकार का हिस्सा बनें और उन्हें एनसीपी से समर्थन लेने में रुचि नहीं है। महाराष्ट्र में शिवसेना को पांच कैबिनेट और सात राज्यमंत्री स्तर के पदों की पेशकश की गई है। बहरहाल, अभी यह साफ नहीं हो सका है कि क्या शिवसेना ने उप मुख्यमंत्री पद की अपनी मांग छोडम् दी है या बरकरार रखी है।

टीडीपी सांसद चौधरी को मिलेगी राज्यमंत्री की जिम्मेदारी     
उद्योगपति से राजनेता बने टीडीपी के राज्यसभा सदस्य वाई सत्यनारायणा उर्फ सुजना चौधरी को मोदी सरकार के प्रस्तावित मंत्रिमंडल विस्तार में राज्यमंत्री के तौर पर शामिल किया जाएगा। आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने टीडीपी के कोटे के तहत चौधरी का नाम भेजा है। मुख्यमंत्री के एक प्रमुख सहयोगी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चौधरी को महज राज्यमंत्री के पद की पेशकश की जबकि उनकी आकांक्षा कैबिनेट मंत्री पद की थी। चंद्रबाबू को रूठे चौधरी को मनाना पडम।

कुंदरिया का मंत्री बनना तय
राजकोट संसदीय सीट से पहली बार सांसद बने मोहन कुंदरिया का नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री के रूप से शामिल होना तय है। गुजरात सरकार के प्रवक्ता नितिन पटेल ने राजकोट में कहा, कुंदरिया को केंद्र सरकार में लिया जाना सौराष्ट्र के लिए गर्व की बात है। भाजपा सूत्रों के अनुसार कुंदरिया को प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन मिला था और उन्हें तत्काल दिल्ली पहुंचने के लिए कहा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शिवसेना को लेकर असमंजस बरकरार