DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'लैंगिक समानता को नेतृत्व दे सकता है भारत'

'लैंगिक समानता को नेतृत्व दे सकता है भारत'

न्यायसंगत एवं समानता पर आधारित समाज के निर्माण की दिशा में दुनिया का नेतृत्व करने की क्षमता भारत में होने पर बल देते हुए संयुक्त राष्ट्र महिला सशक्तिकरण संगठन की प्रमुख ने कहा कि लैंगिक समानता हासिल करने में पुरुष और लड़के महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

संयुक्त राष्ट्र महिला (यूएन वीमन) की कार्यकारी निदेशक फुम्जिले मलाम्बो- नकुका ने शनिवार को कहा कि महिलाओं की स्थिति सुधारने में हमें भारत नेतृत्व की भूमिका में चाहिए। भारत की पहली औपचारिक यात्रा पर आईं मलाम्बो-नकुका से आशा है कि वह बीजिंग घोषणा पत्र की 20वीं जयंती पर लैंगिक समानता के मुद्दे को प्रमुखता से उठाएंगी।

उन्होंने महिला अधिकारों की वकालत करते हुए तैयार मसौदा बीजिंग घोषणा पत्र और कार्रवाई मंच निरूपित करने में भारत के मजबूत विचारधारा वाले नेताओं के नेतृत्व की सराहना की। दिसंबर 2012 में दिल्ली में 23 साल की छात्रा से साथ हुए सामूहिक बलात्कार की वीभत्स घटना का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि जो हादसे हुए हैं, उन्हें देखते हुए आपको और संगठित होने की जरूरत है, सरकार के साथ मिलकर लैंगिक समानता के लिए लड़ने हेतु पुरूषों और युवाओं को संगठित करने की जरूरत है। मैं यह बता देना चाहती हूं कि आप हम पर भरोसा कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'लैंगिक समानता को नेतृत्व दे सकता है भारत'