DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुनकरों का पैकेज महज धोखेबाजी

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जनता को बरगलाने के नये शिगूफे छोड़ना बंद करें। सबसे पहले काला धन देश में वापस लाकर अपने वायदे के मुताबिक 15-15 लाख रुपये हर भारतीय के बैंक खाते में जमा करायें।

बसपा अध्यक्ष ने शनिवार को यहां एक बयान जारी कर कहा है कि श्री मोदी  अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के पहले दौरे में जनता का कुछ ठोस कल्याण करने की जगह वही कोरा उपदेश देते रहे। उन्होंने कहा कि केवल लोकलुभावन बातें कीं। उन्होंने कहा कि दिन में सपने दिखाने से काम नहीं चलने वाला है, बल्कि  गरीबों, शोषितों, पीड़ितों, किसान, युवा व महिलाओं के लिए कुछ ठोस करके दिखाना होगा।
उन्होंने कहा कि मोदी को चाहिए कि वे चुनावी वायदा निभाते हुए जनता को मंहगाई से मुक्ति दिलाएं, रोजगार मुहैया कराएं, गरीबों को पक्का मकान निर्मित करके दें और गुजरात की तरह हर राज्य व हर गांव को बिजली दें।

मायावती ने कहा है कि अब जबकि मोदी सरकार को छह महीने पूरे होने वाले हैं, श्री मोदी ’बात नहीं, काम करके दिखाऊंगा’ का नया शिगूफा छोड़ रहे हैं। हकीकत यह है कि उनकी बड़ी-बड़ी बातों से तंग आकर जनता अब आवाज उठाने लगी है कि ’मोदी सरकार वादा निभाओ’। उन्होंने कहा कि श्री मोदी  कन्या भ्रूण हत्या रोकने के लिये हर परिवार को 5 पेड़ अपनी जमीन में लगाने का उपदेश देते वक्त यह भी भूल गये कि अधिकतर आबादी गरीब, भूमिहीन एवं आवासहीन है।

बसपा अध्यक्ष ने मोदी सरकार द्वारा बुनकरों को दिये पैकेज को महज धोखाधड़ी बताते हुए कहा है कि मोदी सरकार ने बुनकरों के  लिए  2,375 करोड़ रुपये के जिस पैकेज का ऐलान किया है, यह वास्तव में बुनकरों को लाभ देने की नहीं बल्कि सहकारी बैंकों के पुनरुद्घार की योजना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बुनकरों का पैकेज महज धोखेबाजी