DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छह हजार लेखपालों की भर्ती पर तलवार

छह हजार लेखपालों की भर्ती राजस्व परिषद और शासन के बीच फंस गई है। दिवाली के बाद भर्ती के लिए एजेंसी तय होनी थी। मगर अभी तक इसका चयन नहीं हो पाया। इससे आवेदन की प्रतीक्षा में जुटे लोगों की बेचैनी बढ़ गई है।

सीएमपी डॉट पुल के पास कई पुस्तक विक्रेता हैं। दुकान में लेखपाल भर्ती की जानकारी देने वाली तख्तियां टंगी हैं। पर किसी को नहीं मालूम कि फॉर्म कब से मिलेंगे? इतना पता है कि भर्ती छह हजार से ज्यादा होंगी। इन्हीं दुकानों के सामने पोस्टरों में लेखपाल भर्ती की कोचिंग के लिए विज्ञापन लगे हैं। कई प्रकाशकों की 150 सौ से 300 रुपये तक तैयारी कराने वाली पुस्तकें बिक रही हैं। पर लेखपाल भर्ती का विज्ञापन कब जारी होगा? इसकी खबर नहीं आई। राजस्व परिषद के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि प्रस्ताव राजस्व महकमे में लंबित है। प्रमुख सचिव राजस्व की हरी झंडी मिलने के बाद ही भर्ती कराने वाली एजेंसी फाइनल की जाएगी। परीक्षा में आंतरिक मदद करने, पेपर तैयार कराने, ऑनलाइन आवेदन कराने और कापियां जांचने से लेकर पेपर पहुंचाने समेत पूरी प्रक्रिया के लिए शर्ते तय कर दी गई हैं। सिर्फ एजेंसी चुनना बाकी है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से इन भर्तियों के लिए जल्द विज्ञापन जारी कराने की मांग कर चुके एक पूर्व मंत्री और विधान परिषद के सदस्य के मुताबिक बीते दो वर्षो में यूपी सरकार की कई भर्तियां कानूनी विवाद में फंस चुकी हैं। इन भर्तियों में प्रदेश के सभी डीएम की अध्यक्षता में चयन समितियों का गठन होना है। एक ही एजेंसी पूरे प्रदेश में एक साथ परीक्षा कराएगी पर साक्षात्कार डीएम की बनाई समिति लेगी। पहली बार इस परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छह हजार लेखपालों की भर्ती पर तलवार