DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दक्षेस में परिणामों के लिये भारत-भूटान करें योगदान : मुखर्जी

दक्षेस में परिणामों के लिये भारत-भूटान करें योगदान : मुखर्जी

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भारत के भूटान के साथ रिश्तों को एक दूसरे की चिंताओं को समझने और व्यापक हित वाला अनुकरणीय बताते हुये आज कहा कि दोनों देश मिलकर आगामी दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ (दक्षेस) शिखर सम्मेलन में दीर्घकालिक फैसलों के लिये रचनात्मक बातचीत में बेहतर योगदान कर सकते हैं।
  
राष्ट्रपति ने यहां एक सम्मेलन को संबोधित करते हुये दोनों देशों को दक्षेस क्षेत्र की प्रगति, वैश्विक शांति, सुरक्षा और विकास के क्षेत्र में पूरी गंभीरता के साथ भूमिका निभाने को कहा। इस मौके पर प्रणब मुखर्जी ने भूटान में भारत की ओर से प्रायोजित कई कार्यक्रमों की भी शुरुआत की।
  
भूटान की अपनी दो दिन की यात्रा के आखिरी दिन मुखर्जी ने कहा, मैं यह सुझाव देना चाहता हूं कि भारत और भूटान दोनों को पूरी गंभीरता के साथ दक्षेस क्षेत्र की प्रगति के लिये बेहतर कार्यक्रमों, वैश्विक शांति, सुरक्षा और विकास के लिये पूरी गंभीरता के साथ अपनी भूमिका निभानी चाहिये।
  
प्रणब की यह भूटान यात्रा पिछले 26 सालों में एक भारतीय राष्ट्रपति की पहली यात्रा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'दक्षेस में परिणामों के लिये भारत-भूटान करें योगदान'