DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंजाबी बहू बनने की कोशिश में विद्या

पंजाबी बहू बनने की कोशिश में विद्या

हमेशा की तरह इस समय भी वह सिर्फ एक फिल्म ‘हमारी अधूरी कहानी’ में काम कर रही हैं। फिल्म हो या निजी जिंदगी, उनकी जीवनशैली में एक सादगी साफ नजर आती है।

शादी के बाद भी उनके लाइफस्टाइल में कोई बदलाव दिखाई नहीं देता। उनका स्पष्ट मानना है कि निजी जिंदगी में कोई बनावटीपन नहीं होना चाहिए। जो आपको अच्छा लगे, सहज ढंग से वही कीजिए।

साड़ी क्वीन
बॉलीवुड की दूसरी हीरोइनों की तुलना में विद्या बालन का पहनावा बहुत अलग होता है। ज्यादातर नायिकाएं आम जिंदगी में डेनिम जींस या टी-शर्ट में एकदम स्वच्छंद नजर आती हैं, पर विद्या के पसंदीदा परिधान हैं साड़ी या सलवार-कुर्ता। इसमें भी साड़ी से उन्हें ज्यादा प्यार है। किसी भी सभा-समारोह में साड़ी के अलावा उन्हें किसी दूसरे परिधान में बहुत कम देखा जाता है। साड़ी में विद्या की शख्सीयत खिल जाती है, ऐसा उनके आलोचक भी मानते हैं। साड़ी के चयन के मामले में वो भी रानी और ऐश की तरह आंख मूंद कर डिजाइनर सब्यसाची पर यकीन करती हैं। डिजाइनर के साथ-साथ कांजीवरम और ढाकाई साड़ी भी उन्हें खूब पसंद हैं। विद्या हंस कर बताती हैं, ‘शुरू से ही साड़ी मेरी पसंदीदा ड्रेस रही है। मैं इसे आसानी से कैरी कर लेती हूं। इसकी तुलना में मुझे दूसरी ड्रेस कैरी करने में थोड़ी असुविधा होती है। लेकिन बीच में लहंगा-कुर्ता या सलवार-कुर्ता पहनना अच्छा लगता है। ये ड्रेस मुझे कैजुअल लगती हैं।’
 
महंगे आभूषण पसंद नहीं
विद्या कहती हैं, ‘मुझे अपनों के लिए कुछ गिफ्ट खरीदना पसंद है। वैसे सिद्धार्थ के लिए सारी खरीदारी मैं ही करती हूं। मुझे भारी-भरकम आभूषण पसंद नहीं हैं, यहां तक कि सलवार सूट या साड़ी के साथ भी छोटे और हल्के-फुल्के आभूषण पहनने ही मुझे अच्छे लगते हैं। शूटिंग के अलावा मैं कभी भारी ज्वेलरी नहीं पहनती।’ यही नहीं, उन्हें डायमंड या महंगी ज्वेलरी के प्रति भी कोई लगाव नहीं है। कम कीमत वाले सुंदर आभूषणों पर उनकी हमेशा नजर होती है।

जॉगिंग से कोई समझौता नहीं
विद्या एक निर्धारित रुटीन के अनुसार चलती हैं। वह हफ्ते में चार-पांच दिन वर्कआउट करती हैं। उनका अपना पर्सनल ट्रेनर भी है, जिसके सुझाव पर वह सारी एक्सरसाइज करती हैं, पर वह जॉगिंग करना कभी नहीं भूलतीं। मौका लगता है तो रात के बारह बजे भी वह जुहू-चौपाटी पर घूमती हैं।

दाल-रोटी खाओ...
विद्या पूरी तरह शाकाहारी हैं। लेकिन अभी कुछ दिनों से उन्होंने अंडे का सफेद वाला हिस्सा लेना शुरू कर दिया है। वह बताती हैं, ‘पंजाबी परिवार में शादी होने की वजह से मुझमें यह बदलाव आया है। यहां सभी मसालेदार खाना पसंद करते हैं। लेकिन मेरा खान-पान शुरू से ही बहुत सीधा-सादा रहा है। मेरे खाने में दाल-रोटी और सब्जी होती है। चावल और रोटी को मैं कभी मिक्स नहीं करती। चावल खाना होता है तो मैं सिर्फ चावल-दाल-सब्जी का लुत्फ उठाती हूं।’ डाइटीशियन पूजा मखीजा की सलाह पर वह हर दो घंटे में कुछ न कुछ जरूर खाती हैं। उनकी खुराक में फलों का अहम स्थान है। कभी-कभी जायका बदलने के लिए वह दाल-मक्खनी और राजमा-चावल का भी आनंद लेती हैं।

त्वचा की खास देखभाल
विद्या की त्वचा बहुत संवेदनशील है। वह कहती हैं, ‘कुछ भी अंट-शंट लगाने से उसका असर मेरे चेहरे पर साफ नजर आने लगता है। मैं क्लीनिंग, टोनिंग और मॉइस्चराइजिंग के जरिये अपनी त्वचा को मेंटेन रखती हूं। मेरे ख्याल से ये तीनों बातें हर तरह की स्किन के लिए जरूरी हैं। इसके लिए प्रसिद्ध सौंदर्य प्रसाधन उत्पादों के अलावा कुछ घरेलू नुस्खे भी इस्तेमाल करती हूं, जो मुझे साबुन या लिक्विड सोप से भी ज्यादा उपयोगी लगते हैं। बस इसके लिए आपको थोडे़-से समय की जरूरत पड़ेगी।’ विद्या सर्दियों में पूरे शरीर पर ऑलिव ऑयल लगाती हैं। वह कहती हैं, ‘इस मौसम में पानी थोड़ा ज्यादा ही पीती हूं। इससे मैं कई स्किन प्रॉब्लम्स से बच जाती हूं।’

चुपके-चुपके शायरी और समुद्र का किनारा
विद्या को कविता लिखने का बहुत शौक है। जब वह फुर्सत में होती हैं, तब अपने कमरे में बैठ कर कविता लिखती हैं। इस बारे में वह सिर्फ गुलजार से ही चर्चा करना पसंद करती हैं। समुद्री स्थानों पर घूमना उनका पसंदीदा शगल है। उन्होंने अपना हनीमून भी कैरिबियन द्वीप में मनाया था। जब भी छुट्टी मनाने की बात आती है तो वह ऐसे ही किसी द्वीप पर चली जाती हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंजाबी बहू बनने की कोशिश में विद्या