DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुनगुने पानी के गरारे करें कफ रहेगा दूर

गुनगुने पानी के गरारे करें कफ रहेगा दूर

सर्दी का मौसम आ ही गया। इस मौसम की अनेक समस्याओं में से कफ भी एक है। इसके अनेक कारण हैं, पर सिर, पैर, छाती और कान पर लगने वाली ठंडी हवा एक बड़ा कारण बन जाती है। कफ से बचाव या उपचार के लिए प्राकृतिक चिकित्सा बेहद फायदेमंद है। आइए जानें, इससे बचाव के प्राकृतिक उपाय।

जल और चिकनाई का प्रतीक है कफ। आयुर्वेद में कफ को भारी, ठंडा, मृदु, चिकना, मीठा और स्थिर आदि गुणों  से युक्त माना गया है। जो द्रव्य इसके विपरीत गुणों वाले होते हैं, उनसे कफ शांत होता है।

कफ कुपित होने के कारण

कफकारी आहार की अधिकता।
चिकने, बहुत ठंडे पदार्थों का अधिक सेवन।
मीठे और भारी पदार्थों का अधिक सेवन।
चावल, उड़द, मक्खन, मांसाहार और खट्टे रस वाले पदार्थों का सेवन भी कफ बनाता है।
एक भोजन के पचे बिना दूसरा भोजन करने की प्रवृत्ति से भी कफ बढ़ जाता है।
असंयमित दिनचर्या जैसे दिन में सोना, देर तक सोए रहना, ज्यादा देर बैठे-बैठे काम करना, आलस्यपूर्ण दिनचर्या, योग-व्यायाम अथवा श्रम का अभाव आदि से भी कफ बढ़ता है।
अधिक शीत सहने या एसी का अधिक देर तक प्रयोग करने से भी कफ हो जाता है।

कफ शांत करने के उपाय
उपरोक्त कारणों को दूर करते हुए कफकारी पदार्थों का सेवन बंद करना चाहिए।
शीतल आहार बंद करना चाहिए।
सुबह नमक-हल्दी युक्त गुनगुने पानी के गरारे करें। ऐसा सर्दी के पूरे मौसम में करें।
पेट को साफ रखें, कब्ज न रहने दें।
शहद मिला गुनगुना पानी सुबह खाली पेट लेना चाहिए।
त्रिफला, चना, मूंग, आंवला, गिलोए, लहसुन, नीम आदि पदार्थ कफ को शांत करते हैं।
रात को ज्यादा खाने से भी सुबह कोल्ड हो जाता है, इसलिए कफ शमन के लिए रात का भोजन हल्का लें।
उबले व स्वच्छ जल का सेवन।
गर्म पानी से स्नान करना चाहिए।
गर्म वातावरण में रहना, समय पर सोना, समय पर जागना, समय पर खाना आदि उत्तम और आवश्यक उपाय हैं।

प्राकृतिक चिकित्सा
गुनगुने पानी का अनीमा करें।
पैरों का गर्म स्नान करें। इसके लिए एक टब में सहने योग्य गर्म पानी रखें। सिर पर कपड़ा ओढ़ कर अपने दोनों पैर उस टब में रख कर बैठ जाएं। पानी की गर्माहट खत्म हो जाए तो पैर टब से निकाल लें।
15-20 कटि स्नान (हिप बाथ) करें। इसे गर्म पैरों के स्नान की तरह किया जाता है।
भाप स्नान और सूखा घर्षण भी लाभकारी है। सूखे घर्षण में पूरे शरीर को रगड़ कर शरीर को गर्म करना होता है।
प्रति दिन 10 मिनट सूर्य स्नान अवश्य करें।

आहार-विहार
अजवाइन के पानी की भाप लें। सौंफ, अदरक, इलाइची, तुलसी पत्ता, मुलेठी, पुदीने का काढम दिन में एक से दो बार लें या ग्रीन टी का इस्तेमाल करें।
सितोपलादि चूर्ण शहद में मिला कर सुबह-शाम एक छोटा चम्मच लें। नाभि पर गुनगुना करके सरसों का तेल लगाएं और दिन भर में एक-दो बार नाक में बादाम का तेल लगाएं।
गुनगुने पानी में हल्का नमक डाल कर जल नेति करें। इससे नाक साफ हो जाएगी और कफ-बलगम निकल जाएगा। इसके अलावा कोशिश करें कि हमेशा गुनगुना पानी ही पिएं।
सुबह खाली पेट तीन से पांच गिलास गुनगुना पानी पीकर कुंजल क्रिया करें। कागासन में बैठ कर तीन से पांच गिलास पानी लगातार पिएं। फिर खड़े होकर नीचे झुकते हुए बायां हाथ पेट के ऊपरी भाग पर दबाएं और सीधे हाथ की तीन उंगलियां जीभ के ऊपरी भाग पर दबा कर उल्टी करें। यह कुंजल क्रिया है। हृदय रोगी, हाई बीपी के रोगी और अल्सर के रोगी इस क्रिया को न करें।

योग उपचार
सूर्य नमस्कार, वीर भद्रासन, उत्तानपादासन, अष्टपाद उत्तानासन, भुजंगासन, मकरासन आदि में से किसी का चयन अपनी जरूरत के अनुसार करें। सूर्यभेदी प्राणायाम, उज्जायी, भस्त्रिका, कपालभाति आदि का अभ्यास करना भी फायदेमंद रहता है।
(वेलनेस केयर, योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र के प्रमुख डॉं. राजेश बतरा से बातचीत पर आधारित)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुनगुने पानी के गरारे करें कफ रहेगा दूर