DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाकर सूर्य को अघ्र्य दिया

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर्व पर गुरुवार को हरिद्वार में आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। सुबह से शाम चार बजे तक करीब 24 लाख श्रद्धालुओं ने हरकी पैड़ी सहित विभिन्न गंगाघाटों पर स्नान किया। अपेक्षा से अधिक उमड़ी भीड़ के सामने पुलिस और प्रशासन की व्यवस्थाएं नाकाफी साबित हुईं। हाईवे से लेकर शहर के भीतर तक जाम की स्थिति बनी रही। दिक्कतों के बाद भी श्रद्धालुओं के उत्साह में कोई कमी नजर नहीं आई।

स्नान पर्व को लेकर बुधवार शाम से ही श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचने लगे थे। गुरुवार तड़के चार बजे से हरकी पैड़ी पर गंगास्नान का सिलसिला शुरू हो गया। सुबह छह बजे तक हरकी पैड़ी के सभी घाट श्रद्धालुओं से पैक हो चुका था। दिनभर हरकी पैड़ी के साथ, बिरला घाट, सुभाष घाट, मालवीय घाट सहित वीआईपी घाट तक श्रद्धालुओं से पटे नजर आए। हर हर गंगे के जयघोष के साथ श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाकर पुण्य कमाया। श्रद्धालुओं की भीड़ से हरकी पैड़ी के आसपास के बाजार भी गुलजार रहे।

उधर, भीड़ बढ़ने के साथ सुबह से ही हाईवे सहित शहर के अंदरुनी इलाकों में जाम लगना शुरू हो गया था। हाईवे पर दिनभर वाहन रेंगते हुए चले। वहीं शहर में नगर कोतवाली से हरकी पैड़ी तक श्रद्धालुओं का पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा था। इसकी वजह से श्रद्धालुओं और पुलिस के बीच नोकझाेंक की घटनाएं भी होती रहीं।

भीड़ में बच्चाों के परिजनों से बिछड़ने और मिलने का सिलसिला चलता रहा। दोपहर एक बजे तक ही पांच वर्ष से कम उम्र के दो दजर्न से अधिक बच्चाे परिजनों से बिछड़ चुके थे। जिन्हें पुलिसकर्मियों ने परिजनों से मिलवाया। एसएसपी कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक शाम चार बजे तक 24.3 लाख श्रद्धालु गंगाघाटों पर स्नान कर चुके थे। देररात तक श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला जारी रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाकर सूर्य को अघ्र्य दिया