DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत से वार्ता के लिए शर्त मंजूर नहीं: पाकिस्तान

भारत से वार्ता के लिए शर्त मंजूर नहीं: पाकिस्तान

पाकिस्तान ने गुरुवार को रक्षा मंत्री अरुण जेटली के बुधवार को दिए बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वह भारत के साथ बातचीत के लिए कोई शर्त स्वीकार नहीं करेगा। इससे पहले जेटली ने अगस्त में विदेश सचिव स्तर की वार्ता के रद्द होने के संदर्भ में एक कार्यक्रम में कहा था कि पाकिस्तान पहले यह तय करे कि उसे बातचीत भारत से करनी है या फिर कश्मीरी अलगाववादियों से।

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता तस्नीम असलम ने नई दिल्ली में भारत आर्थिक शिखर सम्मेलन में जेटली की टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जैसा कि हम कहते आए हैं कि भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता कोई कृपा नहीं है, जो एक देश दूसरे पर कर रहा है। भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता इस क्षेत्र में शांति के लिए जरूरी है। ताकि दक्षिण एशिया जनता के कल्याण तथा आर्थिक विकास पर भी ध्यान दे। उन्होंने कहा कि हम कोई शर्त स्वीकार नहीं करते।

कश्मीरी अलगाववादियों को बताया स्वतंत्रता सेनानी : पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने नई दिल्ली में नियुक्त अपने उच्चायुक्त अब्दुल बासित द्वारा हुर्रियत नेताओं से बातचीत को भी जायज ठहराने की कोशिश की। असलम ने कहा कि कश्मीरी अलगाववादी नहीं हैं, वे संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों द्वारा स्वीकार्य आत्मनिर्णय के अपने अधिकार के लिए संघर्ष कर रहे अधिकृत क्षेत्र के लोग हैं। पाकिस्तान इस विवाद में पक्षकार है। इसलिए यह विचार उसे स्वीकार्य नहीं है।

अफगान-भारत व्यापार में नहीं बनेगा रोडम : पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने हालांकि, स्पष्ट किया है कि वह पाकिस्तान के रास्ते अफगानिस्तान और भारत के बीच हो रहे व्यापार में बाधा खडम नहीं करना चाहता है। उन्होंने कहा,जैसा की आपको ज्ञात है कि अफगानिस्तान जमीन से घिरा हुआ है, हमने उसे रास्ता उपलब्ध कराया है। हम कारोबार बंद नहीं करते। कराची बंदरगाह भारत के लिए उपलब्ध है।

नई मिला शोक संदेश : असलम ने कहा कि वाघा बॉर्डर पर हुए धमाके पर भारत के प्रधानमंत्री द्वारा शोक जताए जाने का फुटेज हमने मीडिया में देखा है। लेकिन आधिकारिक रूप से कोई निंदा या शोक संदेश पाकिस्तान सरकार को नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि इस मामले की पाकिस्तानी एजेंसियां जांच कर रही है और वे यह फैसला लेने में सक्षम है कि जांच में दूसरे देशों की मदद की जरूरत है या नहीं।

क्या कहा था जेटली ने : पाकिस्तान से सचेत चुनाव करने के लिए कहते हुए, जेटली ने कहा था कि पाकिस्तान को एक सीमा रेखा खींचनी होगी कि वह भारत सरकार से बात करना चाहता है या उन लोगों से जो भारत को तोड़ना चाहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत से वार्ता के लिए शर्त मंजूर नहीं: पाकिस्तान