DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय आतंकियों को प्रशिक्षण दे रहा है अलकायदा

भारतीय आतंकियों को प्रशिक्षण दे रहा है अलकायदा

आतंकी संगठन अलकायदा देश में बड़े आतंकी हमलों के फिराक में है। इसके लिए वह भारत में सक्रिय इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) के आतंकवादियों को प्रशिक्षण दे रहा है। भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को इन दोनों आतंकी संगठनों के बीच हुई बातचीत के कुछ सबूत हाथ लगे हैं।

सुरक्षा एजेंसियों के हाथ लगी जानकारी के मुताबिक, दोनों आतंकी संगठन विदेशी नागरिकों का अपहरण करने और भारत को सीरिया और इराक जैसा बनाने का मंसूबा रखते हैं, जहां लगातार हिंसा होती रहे।

अलकायदा की योजना भारत और नेपाल में रह रहे यहूदियों का अपहरण करना भी है, ताकि उनके एवज में पाकिस्तानी मूल की आफिया सिद्दिकी को रिहा कराया जा सके। आफिया न्यूरोसाइंटिस्ट है, जिसे अमेरिका में 86 साल की सजा दी गई है। उस पर अफगानिस्तान में एक अमेरिकी फौजी को मारने की कोशिश करने का आरोप है। आफिया को लेकर आतंकवादी संगठन कितने फिक्रमंद हैं, इस बात का अंदाजा इसी तथ्य से लगाया जा सकता है कि आईएसआईएस ने आफिया की रिहाई के बदले अमेरिकी पत्रकार जेम्स फोले को आजाद करने की पेशकश की थी। लेकिन जब अमेरिका ने इस प्रस्ताव को अनसुना कर दिया तो फोले की हत्या कर दी गई।
सुरक्षा एजेंसियां वाघा बॉर्डर के नजदीक पाकिस्तान में हुए आत्मघाती हमले और कोलकाता में विस्फोट के अल्र्ट को इस बात का सुबूत मानते हैं कि आतंकी गतिविधियों में तेजी आ रही है। उधर, एनआईए के प्रमुख शरद कुमार ने कहा कि हम इस बात का पता लगा रहे हैं कि अलकायदा और आईएसआईएस किस तरह स्थानीय गुटों से जुड़े रहे हैं। खासकर ऐसे माहौल में जब अफगानिस्तान से फौजें वापस लौटने वाली हैं।

टेप में क्या :  सुरक्षा एजेंसियों को आतंकियों के बीच इंटरनेट पर हुई बातचीत को जो टेप मिला है उसमें आईएम का एक संस्थापक रियाज भटकल अपने साथियों से कहता है, अलकायदा के साथ सीधा रिश्ता बनाना जरूरी है ताकि पाकिस्तानी एजेंटों के रोल को खत्म किया जा सके। इस बातचीत में भटकल यह भी बताता है कि आईएसआई के मना करने के बावजूद किस तरह वह अफगानिस्तान-पाकिस्तान सीमा पर अलकायदा के नेताओं से मिलने गया था।

भारतीय उपमहाद्वीप में सक्रिय अलकायदा
चार सितंबर 2014 को अल कायदा के सुप्रीम कमांडर अल जवाहिरी ने भारतीय उपमहाद्वीप में इस्लामी जिहाद की नई शाखा की घोषणा की। इसका नाम जमात अल-जिहाद फी-शिभी अल-करात अल-हिंदिया रखा गया। अलकायदा बर्मा, बांग्लादेश, असम, गुजरात, अहमदाबाद और कश्मीर को स्वतंत्र कराना चाहता है।

2008 से अस्तित्व में आए इंडियन मुजाहिदीन ने भारत में कई हमलों को अंजाम दिया है।
04 जून 2010 को केंद्र सरकार ने आईएम को आतंकी संगठन घोषित करते हुए इस पर प्रतिबंध लगा दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारतीय आतंकियों को प्रशिक्षण दे रहा है अलकायदा