DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रतियोगियों ने एसएससी दफ्तर पर जड़ा ताला

कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) की संयुक्त स्नातक स्तरीय भर्ती 2013 की मुख्य परीक्षा में गड़बड़ी को लेकर आंदोलित प्रतियोगी छात्रों का गुस्सा बुधवार को फूट पड़ा। परीक्षा रद्द करने की मांग को लेकर सैकड़ों छात्रों ने लाउदर रोड स्थित एसएससी के मध्य क्षेत्र कार्यालय पर सुबह 11 बजे ताला जड़ दिया।
इसके बाद एक हजार से ज्यादा आक्रोशित छात्र सड़क पर ही बैठ गए। इससे मेडिकल कॉलेज चौराहा और बालसन चौराहे के बीच आवागमन बाधित हो गया। प्रदर्शन दोपहर ढाई बजे तक चला। छात्रों का तेवर देख एसएससी कार्यालय पहुंची आधा दजर्न थानों की पुलिस भी बैकफुट पर आ गई।


सैकड़ों छात्र जगराम चौराहा, बघाड़ा क्रॉसिंग, सलोरी, अल्लापुर लेबर चौराहा, विभिन्न डेलीगेसियों और छात्रवासों से जुलूस की शक्ल में सुबह एसएसी के मध्य क्षेत्र कार्यालय पहुंच गए। खासी संख्या में विभिन्न कोचिंग के छात्र भी जुट गए।


छात्रनेताओं ने बकायदा माइक लगाकर सभा को संबोधित किया और एसएससी से रिजल्ट निरस्त करते हुए आगे की प्रक्रिया तत्काल रोके जाने की मांग की। चक्काजाम की सूचना पर सीओ कर्नलगंज नीति द्विवेदी और एसीएम प्रथम पुष्पराज सिंह ने मौके पर पहुंचकर छात्रनेताओं से वार्ता की।
11 बजे से तीन घंटे तक प्रदर्शन के बाद एसएससी के क्षेत्रीय निदेशक जेपी गर्ग ने प्रतिनिधिमंडल से वार्ता की। क्षेत्रीय निदेशक ने भरोसा दिलाया कि वे छात्रों की पांच सूत्रीय मांग ई-मेल के आयोग अध्यक्ष को मेल कर रहे हैं और इस पर 48 घंटे में कार्यवाही होगी।

इसके बाद प्रदर्शनकारी ये चेतावनी देते हुए वापस लौट गए कि मांगे पूरी नहीं होने पर फिर आंदोलन करेंगे। छात्रनेताओं ने सात नवंबर को वाराणसी पहुंच रहे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात कर अपनी मांग रखने का ऐलान किया।


प्रदर्शन करने वालों में विवेकानन्द पाठक, अमरेन्दु सिंह, चन्दन कुमार सिंह, सुचिता डे, सोनू, विवेक सिंह, नितान्त त्रिवेदी, मनिन्दर अत्रे, सुधीर शुक्ला, शशिकान्त, विकास पाठक, अनिल, सनत, अखंड, आनन्द, अभिषेक, श्यामकृष्ण, प्रतीक राय, कुणाल आदि शामिल थे।

रिजल्ट पर छात्रों की क्या हैं आपत्तियां
-सीजीएल-13 में अनुपस्थित छात्रों का नाम री-एग्जाम के टीयर-टू की सफलता सूची में होना।
-एक ही शहर विशेष से 40 प्रतिशत से ज्यादा सफल छात्रों का होना।
-कटऑफ का पिछले वर्ष की अपेक्षा अचानक लगभग 100 अंक तक बढ़ जाना।
-वर्तमान में हो रही एसएससी की परीक्षा जैसे सीजीएल-14, सीएचएसएल-14 में व्यापक स्तर पर धांधली पकड़े जाना।
-19 जनवरी को जारी सीजीएल13 के नोटिफिकेशन में वर्णित परीक्षा प्रारूप में परिवर्तन होना।

क्या है प्रतियोगी छात्रों की मांग
-सीजीएल-13 री-एग्जाम निरस्त किया जाए और आगे की प्रक्रिया पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाए।
-सीजीएल-13 के री-एग्जाम में व्याप्त भ्रष्टाचार की सीबीआई जांच कराई जाए।
-टीयर-वन और टीयर-टू के परीक्षाफल और अंक पीडीएफ फाइल में अभ्यर्थियों के टिकट नंबर, रोल नंबर समेत 48 घंटे में जारी किए जाएं।
-एसएससी की सभी परीक्षाओं को पारदर्शी बनाया जाए।
-सीजीएल-13 के डिबार व अनुपस्थित अभ्यर्थियों की लिस्ट जिसको सीबीआई ने कैट के समक्ष प्रस्तुत किया था उसे 48 घंटे में सार्वजनिक किया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रतियोगियों ने एसएससी दफ्तर पर जड़ा ताला