DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा-आजसू में नहीं थमी भगदड़

भाजपा और आजसू के नेताओं को चुनावी गठबंधन रास नहीं आ रहा है। दोनों दलों में विरोध का दौर दूसरे दिन भी जारी रहा। गठबंधन के बाद आया राम-गया राम का जो सिलसिला शुरू हुआ वह अब तक नहीं थमा है। आजसू विधायक नवीन जायसवाल बुधवार को आजसू छोड़ने का एलान कर सकते हैं। वहीं तिलेश्वर साहू की विधवा साबो देवी ने आजसू छोड़ दी। वह बरही से चुनाव लड़ने की तैयारी कर चुकी थीं। आजसू ने समझौते में यह सीट भाजपा को दे दी है।

गठबंधन के साथ ही भाजपा में टिकट बंटवारे को लेकर भी असंतोष है और बड़े नेताओं को विरोध का सामना करना पड़ रहा है। मंगलवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में रघुवर दास और सीपी सिंह को कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना करना पड़ा। सीपी सिंह को एक कार्यकर्ता ने काफी भला बुरा भी कह दिया। नेताओं ने नाराज कार्यकर्ताओं को समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे मानने को तैयार नहीं हुए।

गोमिया से पहुंचे कार्यकर्ता, हटिया में भी विरोध
पूर्व विधायक छत्रु राम महतो के नेतृत्व में काफी संख्या में कार्यकर्ता मंगलवार को प्रदेश कार्यालय पहुंचे। कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। हटिया सीट को लेकर पार्टी के वैश्य नेता काफी गुस्से में थे। उन्होंने प्रदेश के नेताओं के सामने विरोध जताया। उनका कहना था कि हटिया वैश्य समाज का परंपरागत सीट है। पलामू और संतालपरगना से भी कार्यकर्ता पहुंचे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि बड़े नेताओं की चापलूसी करनेवालों को टिकट दिया गया है। सांसद सुनील सिंह और प्रदेश संगठन महामंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह को भी कार्यकर्ताओं ने निशाना बनाया।

अगड़ी - पिछड़ी की लड़ाई
विरोध प्रदर्शन के बीच भाजपा कार्यालय में कार्यकर्ता और नेता अगड़ी और पिछड़ी में बंटते दिखे। वैश्य नेताओं ने आरोप लगाया कि भाजपा में अगड़ी जाति को ज्यादा महत्व मिल रहा है। पांकी, डालटगनंज, हटिया सीट कई सीटों पर अगड़ी जाति से उम्मीदवार दिये जाने का विरोध किया गया। वहीं दूसरे नेताओं का कहना था कि सामान्य सीट किसी जाति या वर्ग के लिए आरक्षित नहीं है।

टिकट बंटवारे के साथ ही दलों में मची भगदड़
रांची । टिकट बंटवारे के साथ ही राजनीतिक दलों में भागदौड़ शुरू हो गई है। टिकट की आस में नेता तेजी से दल बदल रहे हैं। भाजपा और आजसू में सबसे अधिक भगदड़ मची है। उनके लिए झामुमो और झाविमो नया ठौर बन रहा है। कई नेताओं को दल बदलने के साथ ही टिकट भी मिल जा रहा है।
नाम   कहां थे  कहां गये/संभावना विधानसभा
नवीन जायसवाल आजसू  झाविमो   हटिया
लोकनाथ महतो आजसू  झामुमो   बड़कागांव
साबी देवी  आजसू  झामुमो   बरही
दुलाल भुईंया भाजपा  झामुमो   जुगसलाई
वीरेंद्र साव  भाजपा  झाविमो   
दीपा बड़ाईक आजसू  झाविमो   सिमडेगा

लाल धर्मेन्द्र प्रताप देव होंगे प्रत्याशी
रांची। राजद ने भवनाथपुर से लाल धर्मेन्द्र प्रताप देव को प्रत्याशी बनाया है। यह सीट कांग्रेस के कब्जे में थी, जिसे राजद के लिए छोड़ दिया गया है। कांग्रेस ने विधायक अनंत प्रताप देव को प्रत्याशी घोषित किया था, लेकिन वह पार्टी छोड़कर भाजपा के टिकट से चुनाव लड़ रहे हैं। लाल धर्मेन्द्र प्रताप देव 2005 में बहुजन समाज पार्टी से चुनाव लड़ चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भाजपा-आजसू में नहीं थमी भगदड़