DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

होटल मैनेजमेंट: सिखाए मेहमाननवाजी की कला

होटल मैनेजमेंट: सिखाए मेहमाननवाजी की कला

करियर की दृष्टि से होटल इंडस्ट्री एक बेहतरीन फील्ड है। होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई के बाद इस इंडस्ट्री से जुड़ा जा सकता है। इसमें रोजगार की संभावनाओं के बारे में बता रहे हैं प्रसन्न

पहले होटल मैनेजमेंट का मतलब सिर्फ यही माना जाता था कि इस कोर्स को करके सिर्फ शेफ बना जा सकता है। लोग ऐसा सोचते थे कि शेफ बन भी गए तो क्या, यह तो बावर्ची का काम है। लेकिन आज शेफ के पेशे ने इज्जत, शोहरत और कमाई के साथ—साथ समाज में अपनी एक अलग छवि बना ली है। इतना ही नहीं, होटल मैनेजमेंट के कोर्स ने शेफ के अलावा और भी कई तरह के करियर विकल्पों को जन्म दिया है।

होटल इंडस्ट्री का दायरा आज काफी बढ़ गया है। आज इस इंडस्ट्री में मैनेजमेंट, एडमिनिस्ट्रेशन, हाउसकीपिंग, मार्केटिंग, मेंटेनेंस जैसे कई विभाग हैं, जिनमें स्किल्ड प्रोफेशनल्स की काफी डिमांड है। यह क्षेत्र ग्लैमरस होने के साथ—साथ काम में सुकून भी प्रदान
करता है। 

होटल मैनेजमेंट से जुड़े विभाग
मैनेजमेंट, फूड एंड बेवरेजेज, हाउसकीपिंग, अकाउंटिंग, मार्केटिंग, रिक्रिएशन, मेंटेनेंस, सिक्योरिटी, फायर फाइटिंग, पब्लिक रिलेशंस आदि।

कोर्स
होटल मैनेजमेंट में कई तरह के कोर्स उपलब्ध हैं, जो 12वीं और ग्रेजुएशन के बाद किए जा सकते हैं। इन कोर्स की अवधि 6 महीने से लेकर 3 साल तक हो सकती है। भारत में होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई के लिए नेशनल काउंसिल फॉर होटल मैनेजमेंट एंड केटरिंग टेक्नोलॉजी एक बेहतरीन सरकारी संस्था है। इसकी स्थापना 1982 में हुई थी। देश में बीएससी (हॉस्पिटेलिटी एंड होटल एडमिनिस्ट्रेशन) के तीन वर्षीय डिग्री कोर्स को काउंसिल और इग्नू संयुक्त रूप से संचालित कर रहे हैं। इनके तत्वावधान में होटल मैनेजमेंट के 21 केंद्रीय संस्थान, 7 प्रदेश संस्थान तथा 7 निजी होटल प्रबंधन संस्थान चल रहे हैं। इनकी 5,700 सीटों के लिए हर साल अखिल भारतीय स्तर पर संयुक्त चयन परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इससे बीएचएम कोर्स में दाखिला मिलता है, जबकि अधिकांश प्राइवेट संस्थान अपने यहां दाखिले के लिए खुद से प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं।

प्रमुख कोर्स
बैचलर ऑफ होटल मैनेजमेंट
बीएससी इन होटल मैनेजमेंट
बैचलर ऑफ होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी
बीए/ बीएससी ऑनर्स इन होटल मैनेजमेंट
बीबीए इन होटल मैनेजमेंट
मास्टर ऑफ साइंस इन होटल मैनेजमेंट
एमबीए इन होटल मैनेजमेंट
सर्टिफिकेट कोर्स इन होटल एंड केटरिंग मैनेजमेंट
डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट
क्राफ्ट्समैनशिप कोर्सेज
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट
डिप्लोमा इन होटल एंड कैटरिंग मैनेजमेंट
बैचलर डिग्री इन हॉस्पिटैलिटी साइंस
बीएससी इन होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग साइंस

योग्यता
होटल मैनेजमेंट कोर्स में दाखिला लेने की न्यूनतम योग्यता 12वीं है, लेकिन अगर आप ग्रेजुएशन के बाद होटल इंडस्ट्री में करियर बनाना चाहते हैं तो इसके लिए आप एमएससी इन होटल मैनेजमेंट और पीजी डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट कोर्स कर सकते हैं। ज्यादातर संस्थान ऑल इंडिया एडमिशन टेस्ट और इंटरव्यू के आधार पर चयन करते हैं। इंटरव्यू में आवेदक की बुद्धिमत्ता, जनरल नॉलेज और अंग्रेजी की क्षमता परखी जाती है।

व्यक्तिगत कौशल
अगर आप होटल मैनेजमेंट के क्षेत्र में आना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे जरूरी है आपके व्यक्तित्व का आकर्षक होना। इसके साथ ही आपकी कम्युनिकेशन स्किल भी शानदार होनी चाहिए।

अन्य आवश्यक स्किल्स
दोस्ताना व्यवहार
हमेशा मदद के लिए तैयार
सोचने की क्षमता और प्रशासनिक दक्षता
सबको साथ लेकर चलने की क्षमता
काम के दबाव में भी चेहरे पर मुस्कान रखने की आदत
ईमानदार
मेहनती

होटल इंडस्ट्री में विकल्प
मैनेजमेंट:
किसी भी होटल को अच्छी तरह चलाने  की पूरी जिम्मेदारी मैनेजमेंट पर होती है। हर विभाग के कामकाज के बेहतर संचालन के लिए अलग-अलग मैनेजर होते हैं।
फ्रंट ऑफिस: फ्रंट ऑफिस का काम अतिथियों का स्वागत करना होता है। फ्रंट ऑफिस के अंतर्गत रिसेप्शन, कस्टमर हेल्प डिपार्टमेंट, सूचना डेस्क और रिजर्वेशन आदि आते हैं।
फूड एंड बेवरेजेज: इसमें तीन विभाग शामिल होते हैं- किचन, स्टीवर्ड और फूड सर्विस विभाग। इस विभाग में खाना बनाने से लेकर परोसने तक का काम होता है।
हाउसकीपिंग: होटल की ठीक तरह से देखरेख के लिए हाउसकीपिंग विभाग की जरूरत होती है। कमरों, मीटिंग हॉल, लाउंज, लॉबी, रेस्तरां आदि की साफ-सफाई की जिम्मेदारी इसी विभाग के पास होती है।
मार्केटिंग: होटल में उपलब्ध सेवाओं और सुविधाओं की मार्केटिंग होटल मैनेजमेंट का अहम पहलू है। होटल की बेहतर पैकेजिंग से आकर्षित होकर जितने ग्राहक वहां आते हैं, वे होटल को न सिर्फ बिजनेस देते हैं, बल्कि दूसरों को भी होटल के बारे में बताते हैं। इन सबके अलावा होटल में कई और विभाग होते हैं, जो दूसरे संगठनों या कंपनियों में भी होते हैं, जैसे अकाउंट्स, सिक्योरिटी, मेंटेनेंस इत्यादि।

मिलने वाले पद
मैनेजमेंट ट्रेनी
मैनेजर
शेफ
कस्टमर रिलेशन एग्जीक्यूटिव
सेल्स एग्जीक्यूटिव
केटरिंग ऑफिसर

नौकरी के अवसर
होटल, रेस्तरां/ फास्ट फूड ज्वाइंट, क्लब मैनेजमेंट/ रिक्रिएशन एंड हेल्थ केयर मैनेजमेंट, क्रूज शिप होटल, हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन एंड केटरिंग, इंस्टीट्यूशनल एंड इंडस्ट्रियल केटरिंग, एयरलाइन केटरिंग एंड केबिन सर्विसेज आदि जगहों पर नौकरी के अवसर मौजूद हैं।

वेतन
होटल मैनेजमेंट के क्षेत्र में बतौर ट्रेनी शुरुआती वेतन 18,000 रुपये से 25,000 रुपये होता है। यह वेतन पद, काम और अनुभव के आधार पर बढ़ता जाता है।

रोजगार की संभावनाएं
देश में होटल इंडस्ट्री तेजी से पांव पसार रही है। बड़े और नामी-गिरामी होटल मेट्रो सिटी से आगे बढ़ते हुए राज्यों की राजधानियों तक में अपनी शाखाएं खोल रहे हैं और धीरे-धीरे अन्य छोटे शहरों पर भी ध्यान केन्द्रित कर रहे हैं। इसके अलावा इंटरनेशनल फूड चेन्स बड़े शहरों के बाद अब देश के छोटे शहरों और कस्बों तक में अपनी पहुंच बना रही हैं। पर्यटकों की बढ़ती संख्या तथा छोटे व बड़े शहरों की घटती दूरियों ने इस इंडस्ट्री को अपना  दायरा बढ़ाने पर विवश कर दिया है। विशेषज्ञों के अनुसार इंटरनेशनल मानकों पर चलने वाले हर होटल में स्किल्ड लोगों की काफी कमी है। जहां एक ओर देश में स्किल्ड लोगों की मांग काफी अधिक है, वहीं इनकी संख्या काफी कम है। देश के अलावा विदेश में भी स्किल्ड प्रोफेशनल्स की काफी मांग है।

एक्सपर्ट व्यू
ईमानदारी और कड़ी मेहनत है जरूरी

ग्लोबलाइजेशन के इस दौर में होटल इंडस्ट्री काफी तेजी से बढ़ रही है। आज होटल इंडस्ट्री में कई तरह के जॉब विकल्प हैं, जो युवाओं के बेहतर भविष्य का निर्माण कर सकते हैं। इस इंडस्ट्री में आने वाले नए युवाओं के लिए जरूरी है कि वे ईमानदारी और कड़ी मेहनत के साथ काम करें। प्रशिक्षण के दौरान सभी बातों को अच्छे से सीखें और हर समय किसी भी तरह की चुनौती से निबटने के लिए तैयार रहें। इस क्षेत्र में सफलता के लिए प्रतिबद्धता और ईमानदारी बेहद आवश्यक है। इन सबके अलावा फूड फैशन और होटल इंडस्ट्री में आ रहे नित नए बदलावों से अपडेट रहें। इस इंडस्ट्री में हमेशा वर्ल्डवाइड चेंजेज आते रहते हैं। अपने आप को इंडस्ट्री में बनाए रखने के लिए इन सबके बारे में हर पल अपटूडेट रहना जरूरी है, जिसे नई टेक्नोलॉजी और इंटरनेट ने काफी आसान बना दिया है। होटल मैनेजमेंट में कई सारे विकल्प हैं। एक बात हमेशा ध्यान रखें कि आप अपनी पसंद के ही विकल्प को चुनें। अगर आपको फूड आइटम्स के साथ नए-नए एक्सपेरिमेंट्स करने में मजा आता है तो आप शेफ बन सकते हैं, लेकिन अगर आपकी मैनेजमेंट स्किल अच्छी है तो आप प्रबंधन का काम देख सकते हैं। इसके अलावा भी कई विकल्प हैं, जो अपनी रुचि के अनुसार चुने जा सकते हैं।
शेफ अयूब सलीम, होटल द ग्रैंड, नई दिल्ली
(पिछले 40 वर्ष से होटल इंडस्ट्री से जुड़े हुए हैं और देश-विदेश के कई प्रमुख होटलों में काम कर चुके हैं।)

प्रमुख संस्थान

आईएचएम, मुंबई
www.ihmctan.edu
आईएचएम, दिल्ली
www.ihmpusa.net
आईएचएम औरंगाबाद 
www.ihma.ac.in
आईएचएम, बेंगलुरू
www.ihmbangalore.kar.nic.in
आईएचएम, हैदराबाद, चेन्नई, कोलकाता, अहमदाबाद
द ओबरॉय सेंटर ऑफ लर्निग एंड डेवलपमेंट, नई दिल्ली 
www.oberoihotels.com
पंडित रविशंकर शुक्ल यूनिवर्सिटी, रायपुर (छत्तीसगढ़) 
www.prsu.ac.in
डिपार्टमेंट ऑफ टूरिज्म एंड होटल मैनेजमेंट (कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी, हरियाणा)
www.kuk.ac.in
डीएसएमएस कॉलेज ऑफ टूरिज्म एंड मैनेजमेंट, बर्दवान यूनिवर्सिटी, पश्चिम बंगाल
www.buruniv.ac.in
मेरिट स्विस एशियन स्कूल ऑफ होटल मैनेजमेंट, ऊटी (तमिलनाडु)
क्राइस्ट कॉलेज, बेंगलुरू
डॉ. अंबेडकर इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, चंडीगढ़
रिजवी कॉलेज ऑफ होटल मैनेजमेंट, मुंबई

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:होटल मैनेजमेंट: सिखाए मेहमाननवाजी की कला