DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूजीसी नेट दिसंबर 2014: रणनीति बना कर करें तैयारी

यूजीसी नेट दिसंबर 2014: रणनीति बना कर करें तैयारी

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की अं.ति.- 15 नवंबर 2014
फीस जमा करने की अं.ति. - 18 नवंबर 2014
आवेदन पत्र भेजने की अं.ति.- 25 नवंबर 2014
परीक्षा की तिथि - 28 दिसंबर, 2014

देश के किसी भी विश्वविद्यालय अथवा सम्बद्ध महाविद्यालयों में लेक्चरर बनने का सपना तभी पूरा हो पाता है, जब यूजीसी द्वारा आयोजित राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) उत्तीर्ण की जाए। इसके लिए साल में दो बार आवेदन (जून व दिसम्बर) मांगे जाते हैं। लगभग 79 विषयों के लिए होने वाली यह परीक्षा देश के करीब 89 केन्द्रों पर आयोजित की जाती है। इस परीक्षा के लिए साल दर साल उम्मीदवारों की संख्या बढ़ती जा रही है। अब दिसम्बर 2014 के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। इच्छुक छात्र आवेदन कर उच्च शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षण के सपने को पूरा कर सकते हैं।

मास्टर डिग्री के बाद योग्य
छात्रों के इस परीक्षा में बैठने का रास्ता तभी साफ हो पाता है, जब वे किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय अथवा संस्थान से मास्टर डिग्री (55 प्रतिशत अंकों सहित) हासिल कर चुके हों। मास्टर कोर्स के अंतिम वर्ष की परीक्षा में सम्मिलित होने वाले छात्र भी इस परीक्षा के लिए योग्य हैं। सरकारी नियमानुसार इसके लिए एससी/एसटी व शारीरिक विकलांगों को पांच प्रतिशत तथा पीएचडी धारक अभ्यर्थियों को भी पांच प्रतिशत की छूट दी गई है।

आयु-सीमा का भी बंधन
इसमें लेक्चरर तथा जेआरएफ के लिए अलग-अलग आयु सीमा निर्धारित है। जेआरएफ के लिए जहां आयु सीमा 28 वर्ष तय की गई है, वहीं लेक्चरर के लिए ऊपरी आयु सीमा का कोई बंधन नहीं है। शैक्षिक योग्यता की तरह इसमें भी छूट का प्रावधान है।

आवेदन से पूर्व की जरूरी बातें
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन होने के कारण उम्मीदवारों को यह सलाह दी जाती है कि वे आवेदन से पूर्व अपनी फोटो जरूर स्कैन करा लें। फोटो जेपीजी फॉर्मेट में होनी चाहिए। फीस डेबिट/क्रेडिट कार्ड या ई-चालान के जरिए जमा की जा सकती है। ई-चालान सिंडिकेट, केनरा व आईसीआईसीआई बैंक की किसी भी शाखा से बनवा सकते हैं। इसमें सामान्य के लिए 450 रुपए, ओबीसी के लिए 225 व एससी/एसटी व शारीरिक विकलांग उम्मीदवारों के लिए 110 रुपए निर्धारित किए गए हैं।

सत्र के आधार पर परीक्षा 
नेट का पहला सत्र ढाई घंटे का होता है। इस सत्र में दो प्रश्न-पत्र आयोजित होते हैं। ये दोनों ही प्रश्न-पत्र सवा-सवा घंटे के होते हैं। इनके बीच में कोई गैप नहीं मिलता। साढ़े नौ बजे से शुरू होकर यह पहला सत्र 12 बजे तक चलता है, जबकि दूसरे सत्र में सिर्फ एक प्रश्न-पत्र होता है। यह प्रश्न-पत्र ढाई घंटे (डेढ़ बजे से चार बजे तक) का होता है। यानी दोनों सत्रों के बीच में उम्मीदवारों को डेढ़ घंटे का गैप मिलता है। इस समय का उपयोग वे रिफ्रेशमेंट अथवा रिवीजन के लिए कर सकते हैं।

परीक्षा तीन पेपरों में
तीनों पेपरों का माध्यम हिन्दी व अंग्रेजी दोनों होता है। पहले पेपर में जनरल नेचर, टीचिंग/रिसर्च एप्टिटय़ूड, रीजनिंग एबिलिटी, कॉम्प्रीहेंशन व जनरल अवेयरनेस पर आधारित प्रश्नों को पूछा जाता है। इसमें प्रश्नों की संख्या 60 होती है, जिसमें से 50 करने होते हैं। प्रत्येक प्रश्न दो-दो अंकों का होता है। दूसरा पेपर उम्मीदवार द्वारा चुने गए विषय से होता है। इसमें कुल 50 प्रश्न होते हैं और उन सभी को हल करना आवश्यक होता है। इसमें भी प्रत्येक प्रश्न के दो अंक निर्धारित होते हैं। इसके लिए सवा घंटे का समय मिलता है। तीसरा पेपर ढाई घंटे का होता है तथा इसमें 75 ऑब्जेक्टिव प्रश्न करने होते हैं। सभी प्रश्न अनिवार्य होते हैं। इसमें पूछे जाने वाले प्रश्न भी उम्मीदवार द्वारा चुने गए विषय से होते हैं।

न्यूनतम अंक का ताना-बाना
नेट के तीनों पेपरों में से उम्मीदवार को प्रत्येक में न्यूनतम अंक लाने जरूरी हैं। तभी सिलसिला आगे बढ़ पाता है। इसका विवरण निम्न है-
कैटेगरी पेपर-1 पेपर-2 पेपर-3
जनरल 40 प्रति. 40 प्रति. 50 प्रति.
ओबीसी 35 प्रति. 35 प्रति. 45 प्रति.
एससी/एसटी 35 प्रति. 35 प्रति. 40 प्रति. 

सिलेबस पर न रहे कनफ्यूजन
यह परीक्षा क्वालिफाइंग नेचर के साथ-साथ हाईस्कोरिंग भी होती है। परीक्षा को लेकर उम्मीदवारों के बीच जबर्दस्त प्रतिस्पर्धा रहती है। अत: निम्न बातों का ख्याल रखें-

करेंट अफेयर्स मजबूत रखें
शिक्षण अभिरुचि के प्रश्नों पर रखें फोकस
सेलेक्टिव सब्जेक्ट का बेसिक क्लीयर करें
मॉक टेस्ट से हासिल करें लय
ज्यादा से ज्यादा प्रश्न हल करें
हर कन्फ्यूजन समय रहते दूर करें
अपना हौसला बनाए रखें
ऑनलाइन आवेदन और जानकारी हासिल करने से जुड़ी कुछ जरूरी वेबसाइट्स-
www.cbsenet.nic.in
www.ugc.ac.in/

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:यूजीसी नेट दिसंबर 2014: रणनीति बना कर करें तैयारी