DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हमले के 13 साल बाद फिर खोला गया वर्ल्ड ट्रेड सेंटर

हमले के 13 साल बाद फिर खोला गया वर्ल्ड ट्रेड सेंटर

पूरी दुनिया को दहला देने वाले, 11 सितंबर 2001 के भयावह आतंकी हमले में ध्वस्त हुए वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के दो टावरों की जगह न सिर्फ एक नई खूबसूरत इमारत तैयार हो गई, बल्कि इसे कारोबार के लिए खोल भी दिया गया। पहले दिन, प्रकाशन जगत की दिग्गज कंपनी कोन्डे नास्ट के 175 कर्मचारियों ने यहां काम किया।

13 साल पहले आतंकवादी हमले में ध्वस्त हुए दो टॉवरों की जगह तैयार की गई चमकीले रंग की यह गगनचुंबी इमारत वन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर इस बात का प्रतीक है कि अब यहां सब कुछ सामान्य है। पोर्ट अथॉरिटी ऑफ न्यूयॉर्क एंड न्यूजर्सी के कार्यकारी निदेशक पैट्रिक फोये ने कहा न्यू यार्क सिटी की रौनक कायम है।

अमेरिका की सबसे ऊंची इस इमारत का और वर्ल्ड ट्रेड सेंटर स्थल का स्वामित्व पोर्ट अथॉरिटी ऑफ न्यूयॉर्क एंड न्यूजर्सी के पास ही है। कुल 1,776 फुट (541 मीटर) उंचे नए टावर से थोड़ी ही दूर दो स्मारक फव्वारे तैयार किए गए हैं। ध्वस्त हुए टॉवरों की जगह पर तैयार ये फव्वारे उन 2,700 से ज्यादा लोगों की याद में बनाए गए हैं जो 11 सितंबर 2001 को किए गए भयावह आतंकवादी हमले में मारे गए थे।

कारोबार के लिए इस इमारत के खोले जाने के पहले दिन, प्रकाशन जगत की दिग्गज कंपनी कोन्डे नास्ट के 175 कर्मचारियों ने यहां काम किया। समक्षा जाता है कि वोग, द न्यू यॉर्कर और वैनिटी फेयर जैसी पत्रिकाओं का प्रकाशन करने वाली यह कंपनी अगले साल के शुरू तक 3,000 और कर्मियों को यहां ले आएगी।

कुल 104 मंजिला इस टावर में कोन्डे नास्ट ने 25 मंजिलें ले रखी हैं। निजी तौर पर कंपनी के कुछ कर्मियों ने माना कि वह इस इमारत में काम को लेकर कुछ परेशान हैं क्योंकि आतंकवादी फिर से इसे निशाना बना सकते हैं। फोये इसका प्रतिवाद करते हुए इसे अमेरिका में कार्यालयों की सर्वाधिक सुरक्षित इमारत बताते हैं।

इस इमारत के वास्तुविद टी जे गोटटाडाइनर ने कहा कि स्टील की मदद से कंक्रीट को मजबूती देते हुए तैयार की गई यह इमारत किसी भी तरह के आतंकवादी हमले से पूरी तरह सुरक्षित है और अपहत विमानों के टकराने से ध्वस्त हुए मूल टॉवरों से कहीं ज्यादा मजबूत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हमले के 13 साल बाद फिर खोला गया वर्ल्ड ट्रेड सेंटर