DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी सरकार ने 23 चीनी मिलों के बेचने पर रोक लगाई

प्रदेश सरकार ने यूपी कोआपरेटिव शुगर फेडरेशन की सभी 23 चीनी मिलों के बेचने पर रोक लगा दी है। यह फैसला सोमवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में लिया गया है। कैबिनेट के फैसले के अनुसार इन चीनी मिलों को प्रदेश हित में चलाया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार मायावती सरकार ने घाटे में चल रही इन सहकारी चीनी मिलों को बेचने का फैसला लिया था। इनको बेचने की टेंडर प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई थी लेकिन इस बीच यह मामला कोर्ट में चला गया। इससे इनकी बिक्री रुक गई।

कैबिनेट ने यह भी फैसला लिया है कि कोआपरेटिव शुगर फेडरेशन की चीनी मिलों के कर्मचारी अब कोआपरेटिव एक्ट के तहत संचालित होंगे। अभी तक इनको इंडस्ट्रीयल डिस्प्यूट एक्ट के तहत गवर्न किया जाता था। इंडस्ट्रीयल डिस्प्यूट एक्ट के तहत कर्मचारी संघ और मिल प्रबंधन की एक संयुक्त समिति बनती थी जो कर्मचारियों के प्रमोशन और वेतन, भत्ते तय करती थी। बाद में यह मामला सुप्रीम कोर्ट में चला गया। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि चीनी मिलें कोआपरेटिव की हैं, इसलिए इनके कर्मचारियों को इंडस्ट्रियल एक्ट के बजाए कोआपरेटिव एक्ट के तहत गवर्न किया जाना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:यूपी सरकार ने 23 चीनी मिलों के बेचने पर रोक लगाई