DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेरमो में चार बार ही बने गैर कांग्रेसी विधायक

बेरमो विधान सभा क्षेत्र में शुरू से ही कांग्रेस का प्रभाव रहा है और ट्रेड़ यूनियन के नेता ही इस विधान सभा क्षेत्र से विधायक निर्वाचित होते रहे हैं। वर्ष 1952 से प्रसिद्ध श्रमिक नेता बिन्देश्वरी दुबे ने कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में 1952, 1962, 1967, 1969 और 1972 में चुनाव जीतकर बेरमो का प्रतिनिधित्व किया तो उनके राजनीतिक उतराधिकारी के तौर पर वर्तमान में इंटक के महामंत्री सह निवर्तमान झारखंड सरकार के मंत्री राजेन्द्र प्रसाद सिंह ने वर्ष 1985, 1990, 1995, 2000 और 2009 में बेरमो विधान सभा का प्रतिनिधित्व किया।

इस अवधि में इमरजेन्सी के बाद वर्ष 1977 में जनता पार्टी के टिकट पर श्रमिक नेता मिथिलेश कुमार सिन्हा ने स्व दुबे को हराकर और वर्ष 1980 में श्रमिक नेता रामदास सिंह ने भाजपा के टिकट पर कांग्रेसी उम्मीदवार कुंवर प्रताप सिंह को हराकर चुनाव जीता। जबकि वर्ष 2005 में गैर ट्रेड़ यूनियन नेता योगेश्वर महतो बाटुल ने भाजपा के टिकट पर चुनाव जीतकर कांग्रेस के राजेन्द्र प्रसाद सिंह को मात दे दी थी। जबकि वर्ष 1957 में ब्रजेश्वर प्रसाद सिंह प्रजा सोशलिस्ट पार्टी से चुनाव जीते थे।

बेरमो विस चुनाव 2009 एक झलक कुल मतदाता-2,73,751 कुल मतदान-1,40,304 मतदान का प्रतिशत- 51.25 कुल उम्मीदवार- 23 प्रमुख प्रत्याशी राजेन्द्र प्रसाद सिंह- प्राप्त मत 47,744 कांग्रेस से विजयी योगेश्वर महतो बाटुल- प्राप्त मत 41,133 भाजपा आफताब आलम- प्राप्त मत 20,549 भाकपा काशीनाथ सिंह-प्राप्त मत14,855 झामुमो दिगंबर महतो-पांचवे स्थान पर रहे आजसू मालमू हो कि वर्ष 2009 के संपन्न विधान सभा चुनाव में 23 दिसंबर को ही मतगणना हुई थी और इस बार भी विधान सभा चुनाव की मतगणना 23 दिसंबर को ही होना है।

वहीं पिछला चुनाव बेरमो विधान सभा के लिए 8 दिसंबर को हुआ था जबकि इस बार 9 दिसंबर को तीसरे चरण में संपन्न होगा।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेरमो में चार बार ही बने गैर कांग्रेसी विधायक