DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोकुल बैराज प्रकरण में पुलिस बैकफुट पर

गोकुल बैराज प्रकरण में पुलिस बैकफुट पर आ गई है। पुलिस ने ग्रामीणों का विश्वास जीतने की कवायद शुरू कर दी है। ग्रामीण पुलिस को दुशमन नहीं दोस्त समङो इस नीति पर काम शुरू हो गया है। ग्रामीणों के दिलों में व्याप्त दहशत को समाप्त करने के लिए पीस कमेटियों का गठन कर बैठक करने की तैयारियां शुरू हो गई है।

जमीन के मुआवजे की मांग करने वालों और पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद आक्रामक हुई पुलिस ने 82 नामजदों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर 11 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस का संख्त रूख देख ग्रामीण भी जोश में आ गए और उन्होंने आर-पार की लड़ाई लड़ने का एलान कर दिया। पुलिस का खुफिया विभाग गांव के हालात पर पैनी नजर रख रहा है। ग्रामीण क्या रणनीति बना रहे हैं इस पर भी नजर रखी जा रही है। ग्रामीणों के तेवर देखने के बाद पुलिस अब बचाव की मुद्रा में आ गई है। पुलिस ने ग्रामीणों का विश्वास जीतने और उन्हें दोस्त बनाए जाने की कवायद शुरू कर दी है।

एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि गोकुल बैराज पर जो कुछ भी हुआ उसके लिए सभी ग्रामीण दोषी नहीं थे। कुछ लोगों को तो गुमराह कर धरना स्थल पर लाया गया था। उनमें शामिल शरारती तत्वों ने माहौल को खराब कर दिया। उन्होंने कहा कि गांवों में पीस कमेटियों का गठन किया जाएगा। इन कमेटियों के साथ पुलिस के अधिकारी बैठक कर शांति की अपील करेंगे। उन्होंने बताया कि गांवों में अमन बहाली के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि उपद्रव में शामिल अधिकतर लोगों पर पुलिस शिकंजा कस चुकी है। नामजद अन्य लोगों की गिरफ्तारी जांच के बाद की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गोकुल बैराज प्रकरण में पुलिस बैकफुट पर