DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसएससी की परीक्षा में अब गोपनीयता, छात्रों में आक्रोश

लोक सेवा आयोग की तरह अब कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) की परीक्षा देने वाले प्रतियोगी भी सिर्फ अपना ही नंबर देख सकेंगे। एसएससी ने इस व्यवस्था में पारदर्शिता को समाप्त कर इसे गोपनीय बना दिया है। इससे परीक्षार्थियो में आक्रोश है। उन्हें यह समझ में नहीं आ रहा है कि लंबे समय से चली आ रही इस व्यवस्था को अचानक बदलने के पीछे मकसद क्या है?

एसएससी अपनी वेबसाइट पर भर्ती परीक्षाओं का परिणाम जारी करता है। पूर्व की व्यवस्था में मार्क्स कॉलम में परीक्षा में शामिल होने वाले सभी परीक्षार्थियों को मिलने वाले नंबरों की एक्सएल फाइल अपलोड की जाती थी। परीक्षार्थी इस पर क्लिक कर अपने नंबर के साथ ही अपने दोस्तों और अन्य परीक्षार्थियों के नंबर भी देख लेते थे। लेकिन अब आयोग ने इस व्यवस्था में बदलाव कर दिया है। अब एक्सएल फाइल के स्थान पर मार्क्स कॉलम में नीले रंग से क्लिक हियर लिख कर आ रहा है। इस पर क्लिक करने के बाद एक बाक्स खुल रहा है। इस बॉक्स में अभ्यर्थियों को अपना रोल नंबर, जन्म तिथि और उसके नीचे दिया सिक्योरिटी टेक्स्ट दर्ज करना होता है। इसके बाद उन्हें नंबर पता चलता है।

स्पष्ट है कि इस नई व्यवस्था में परीक्षार्थी सिर्फ अपना नंबर ही देख सकता है। 2013 के सीजीएल प्री परिणाम के साथ इस व्यवस्था को लागू किया गया है। इससे परीक्षार्थियों में आक्रोश है। इनका कहना है कि पूर्व की व्यवस्था ज्यादा पारदर्शी थी। ठीक ऐसी ही व्यवस्था लोक सेवा आयोग ने भी की है।

लोक सेवा आयोग ने वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) का सिस्टम लागू कर दिया है। इसके तहत रोल नंबर, जन्मतिथि टाइप करने के बाद परीक्षार्थी के रजिस्ट्र्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजा जाता है। ओटीपी को टाइप करने के बाद परीक्षार्थी सिर्फ अपना नंबर देख सकता है। जबकि पूर्व में रोल नंबर और जन्मतिथि टाइप कर किसी का भी नंबर देखा जा सकता था। लोक सेवा आयोग ने यह व्यवस्था इसलिए की थी क्योंकि परीक्षार्थियों ने पीसीएस 2011 की परीक्षा में शामिल परीक्षार्थियों का नंबर जान लिया था और कोर्ट में याचिका दायर कर आरोप लगाए थे कि लिखित परीक्षा में कम नंबर पाने वाले एक जाति विशेष के अभ्यर्थियों को इंटरव्यू में अधिक नंबर देकर चयनित किया गया है। एसएससी ने व्यवस्था क्यों बदली यह परीक्षार्थियों की समझ से परे है। परीक्षार्थियों को शक है कि ऐसा गड़बड़ी को छिपाने के लिए किया गया है। अब जबकि सीजीएल मेन्स 2013 के परिणाम को लेकर बवाल मचा हुआ है तो परीक्षार्थियों का यह शक और गहरा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एसएससी की परीक्षा में अब गोपनीयता, छात्रों में आक्रोश