DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो की कौन कहे, पांच दिन में भी नहीं मिल रही गैस

जिले में छठ के बाद रसोई गैस की किल्लत लगातार बढ़ती जा रही है। उपभोक्ता नम्बर लगाकर इंतजार कर रहे हैं, लेकिन एजेंसियों से रसोई गैस मिलने के बदले उनका पुर्जा (गैस के लिए लगाया गया नंबर) रद्द होने का मैसेज मिल रहा है।

जिन लोगों का पुर्जा रद्द नहीं हो रहा है उन्हें सामान्य रूप से दो दिन में मिलने वाली रसोई गैस पांच दिन में भी नहीं मिल रही है। शहर में इंडियन ऑयल के लगभग 1.5 लाख उपभोक्ता हैं। इनके लिए करीब सात हजार सिलेंडर की प्रतिदिन आपूर्ति की जाती है, लेकिन 31 अक्टूबर से रसोई गैस ग्राहकों की प्रतीक्षा सूची लगातार लम्बी होती जा रही है। वर्तमान समय में करीब 30 हजार उपभोक्ता प्रतीक्षा सूची में हैं। वे रसोई गैस का इंतजार कर रहे हैं।

नयाटोला के आलोक कुमार ने कहा कि ग्राहकों को गैस उपलब्ध कराने के बादले एजेंसी उलटे 72 घंटे से अधिक होने के कारण लगाया गया पुर्जा रद्द करने का मैसेज दे रही है। इसके कारण जहां फिर से नम्बर लगाना होता है वहीं जिन 60 फीसदी लोगों को पुर्जा रद्द नहीं हैं, उन्हें 120 घंटे के बाद भी गैस नहीं मिल रही है। इधर, कावेरी गैस एजेंसी के प्रोप्राइटर महेश्वर प्रसाद सिंह ने कहा कि छठ के कारण 29 तथा 30 अक्टूबर को अवकाश रहने के कारण ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो की कौन कहे, पांच दिन में भी नहीं मिल रही गैस