DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पावर कॉरपोरेशन के यूपी के सभी बिलिंग केंद्र 10 नवम्बर तक बंद

पावर कॉरपोरेशन के यूपी के सभी बिलिंग केंद्र 10 नवम्बर तक बंद रहेंगे। इस दौरान बिजली के नये बिल जमा नहीं होंगे और न बिल संशोधन संबंधी कोई कार्य होगा। इससे उन उपभोक्ताओं को दिक्कत होगी जो स्वयं मीटर की रीडिंग नोटकर बिलिंग काउंटर पर बिल जमा करते हैं।
गौरतलब है कि विद्युत नियामक आयोग ने 12 अक्टूबर से बिजली महंगी कर दी थी। यानी 12 अक्टूबर के बाद जितनी खपत होगी उसका बिल नये टैरिफ के आधार पर बनेगा। इसके बावजूद पावर कॉरपोरेशन के सर्वर को अपडेट नहीं किया गया। मामले की गंभीरता के मद्देनजर दो दिन पूर्व पावर कॉरपोरेशन के अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने एचसीएल कंपनी को 10 नवम्बर तक डाटा अपडेट करने का निर्देश दिया है।
सस्ता मिलेगा बिजली कनेक्शन
सॉफ्टवेयर अपडेट होने से उपभोक्ताओं को बिजली कनेक्शन सस्ता मिलेगा। गौरतलब है कि विद्युत नियामक आयोग ने बिजली मीटर के दाम घटा दिये थे। इससे उपभोक्ताओं को बिजली कनेक्शन सस्ता हो गया था। आयोग ने यह व्यवस्था प्रदेश के सभी डिसकॉमों में लागू कर दी थी। इसके बावजूद एचसीएल कंपनी ने सॉफ्टवेयर को अपडेट नहीं किया। नतीजतन उपभोक्ताओं को पुराने रेट से बिजली कनेक्शन दिया जा रहा था।
मीटर की रीडिंग नहीं होगी फीड
मुख्य अभियंता एपी मिश्र ने बताया कि उपभोक्ताओं के मीटर की रीडिंग होगी लेकिन उसे कम्प्यूटर पर फीड नहीं किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि 11 नवम्बर से सभी डाटा को कम्प्यूटर पर फीड कर दिया जाएगा। इसके बाद उपभोक्ता बिल जमा कर सकेगा।
नहीं मिलेगा नया कनेक्शन
नया कनेक्शन के लिए जिन लोगों ने पहले से आवेदन कर रखा है या फिर नया कनेक्शन के लिए आवेदन देना चाहते हैं, उन्हें 11 नवम्बर तक इंतजार करना पड़ेगा। इसके लिए पीडी (परमानेंट डिसकनेक्शन), बिल संशोधन का काम भी ठप रहेगा।
बिलिंग केंद्रों पर पसरा रहा सन्नाटा
सर्वर ठप होने से सोमवार को लेसा के सभी 58 बिलिंग केंद्रों पर सन्नाटा पसरा रहा। वहीं सर्वर ठप होने से विभागीय कामकाज भी पूरी तरह ठप रहा। नतीजतन सैकड़ों उपभोक्ताओं को निराश होकर वापस लौटना पड़ा।
बकाया बिल कर सकेंगे जमा
वैसे बकाएदार जिन्होंने कई महीनों से भुगतान नहीं किया है और जिनके मीटर की रीडिंग नहीं हुई है वे चाहें तो बिल जमा कर सकेंगे। ऐसे उपभोक्ता इंटरनेट के जरिए भी बिल जमा कर सकेंगे।  
-------------------------
वजर्न
बिजली की नई दर लागू होने से उपभोक्ताओं को अक्टूबर में नये टैरिफ के आधार पर बिजली बिल बनाये जायेंगे। इसलिए एचसीएल कंपनी ने सॉफ्टवेयर को अपडेट करने के लिए 10 नवम्बर तक सर्वर को बंद कर दिया है।
एपी मिश्र
प्रबंध निदेशक, मध्यांचल


वर्ष 2011 के मुकाबले 2013 में बढ़ गए 13.4 फीसदी अपराध
इस साल हत्या, लूटपाट, डकैती और रेप के मामलों से थर्राई रेलवे

लखनऊ वरिष्ठ संवाददाता
सूबे में ट्रेनों का सफर सुरक्षित नहीं रहा। जनरल क्लास हो या स्लीपर बेखौफ बदमाशों ने हर जगह जीआरपी-आरपीएफ को मात दी। आंकड़े बता रहे हैं कि वर्ष 2011 के मुकाबले 2013 में अपराध के आंकड़े 13.4 फीसदी बढ़ गए। अब इस साल के आंकड़े जोड़े जा रहे हैं। अपराधों की जो स्थिति है उससे आने वाले समय में क्राइम ग्राफ और चढ़ने के संकेत हैं।

अब तक जो आंकड़े हैं उनके मुताबिक ट्रेनों में अपराध के कुल 26 हजार 620 मामले आईपीसी के तहत दर्ज हुए हैं। उनमें 4 हजार 169 अपराध सिर्फ उत्तर प्रदेश में हुए। जीआरपी ने पिछले कुछ महीनों में नए सिरे से अपराध पर काबू पाने की कवायद शुरू की है। इसके तहत उन इलाकों को चि?ित किया जा रहा है, जहां अपराध हो रहे हैं। एडीजी जीआरपी जावीद अहमद के मुताबिक सूबे के कुछ पश्चिमी जिलों जैसे मुरादाबाद, अमरोहा, टूंडला के आसपास लूटपाट की वारदातें अधिक हुईं इसलिए वहां के जीआरपी अफसरों को सतर्क किया गया है। अपराधियों की धरपकड़ के लिए योजना बनाई गई है। इसी तरह पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में चोरी की वारदातें ज्यादा हो रही हैं।

इस साल की प्रमुख घटनाएं-
- 2 नवम्बर को पोरबंदर मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस के स्लीपर कोच में पुरानी दिल्ली से करीब 18 किन्नर चढ़ गए। यात्राियों को मारापीटा फिर लूटपाट की।  
- 26 अक्तूबर को मुरादाबाद पैसेंजर में पूवरेत्तर राज्य की एक महिला के साथ छेड़छाड़ और रेप का प्रयास हुआ।
- 27 अक्तूबर को इलाहाबाद से चली नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस में पूर्व विधायक की पुत्री से छेड़छाड़ हुई।
- 21 अक्तूबर को इटावा में अवध एक्सप्रेस में डकैती हुई।
- 20 अक्तूबर को राम नगर बांद्रा एक्सप्रेस में लूटपाट हुई।
- 29 अगस्त को कर्मभूमि एक्सप्रेस में डकैती हुई।
- 1 अगस्त को अहमदाबाद दून एक्सप्रेस के स्लीपर कोच में बेखौफ बदमाशों ने यात्राी पर जानलेवा हमला किया।
- 27 जुलाई को दून एक्सप्रेस के स्लीपर कोच में लखनऊ के एक युवक की हत्या कर  दी गई।
- 29 जुलाई को हावड़ा ग्वालियर एक्सप्रेस में लूटपाट हुई।
- 27 जुलाई को नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस में फौजियों ने युवक को पीटा।
- 21 जुलाई को जनता एक्सप्रेस से कैदी फरार हो गया।
- 28 मई को नई दिल्ली बरौनी प्रीमियम ट्रेन में लूटपाट हुई।
- 22 अप्रैल को मुरादाबाद के पास लखनऊ मेल अप और लखनऊ मेल डाउन के एसी कोचों में लूटपाट हुई।
- 1 अप्रैल को पुरुषोत्तम एक्सप्रेस के 3एसी में लूटपाट हुई।

दो महीनों में तीन डकैतियों का खुलासा, 20 गिरफ्तार
जीआरपी के एडीजी जावीद अहमद के मुताबिक ट्रेनों में अपराध रोकने के लिए नए सिरे से प्रयास किए जा रहे हैं। असर भी दिख रहा है। ट्रेनों में पिछले दो महीनों के दौरान तीन बड़ी डकैतियां बरेली, भरथना और इटावा में हुईं। तीनों वारदातों के आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए। इन मामलों में 20 लोगों को गिरफ्तार किए गया। कई मामले ऐसे भी सामने आए जिसमें रेलकर्मी भी लिप्त थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पावर कॉरपोरेशन के यूपी के बिलिंग केंद्र 10 नवम्बर तक बंद