DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती की तीसरी काउंसलिंग की कट ऑफ जारी

प्रदेश में चल रही 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती की तीसरी काउंसलिंग के लिए भले ही कट ऑफ रविवार को जारी कर दिया गया हो लेकिन इसके बाद कई सवाल खड़े हो गए हैं। सीतापुर, लखीमपुर व हरदोई जैसे कई जिलों में दूसरी काउंसलिंग में रिक्तियों से ज्यादा आए अतिरिक्त अभ्यर्थियों के प्रमाणपत्र वापस कर दिए गए थे, वहां भी रिक्तियां दिख रही हैं। लिहाजा, अभ्यर्थियों में भ्रम की स्थिति है।
दूसरी तरफ, अधिकारियों ने कहा है कि वे एनआईसी से बात करने के बाद ही स्थिति स्पष्ट  कर पाएंगे। एनआईसी इस वक्त 5 अक्तूबर को लांच होने वाली समाजवादी पेंशन योजना की तैयारियों में व्यस्त है।

रीशफलिंग व विशेष आरक्षण से बदल सकता है रिक्तियों का ब्योरा- हालांकि, अनुमान के मुताबिक रीशफलिंग के बाद रिक्तियों का ब्योरा बदलता है। इसी तरह विशेष आरक्षण वाली सीटों का बंटवारा क्षैतिज रूप से किया जाता है यानी उसकी सीटें किसी भी वर्ग या श्रेणी में पहले से आरक्षित  नहीं की जा सकती क्योंकि यह पहले पता नहीं होता कि वह किस जाति या वर्ग का होगा। मसलन, भूतपूर्व सैनिक या विकलांग के लिए विशेष आरक्षण में सीट आरक्षित है लेकिन यह  नहीं पता होता कि वह किस जाति का होगा। इसलिए भी सीटों की संख्या घट-बढ़ सकती है।

पात्र अभ्यर्थी होंगे कम- एक अनुमान यह भी है कि इन जिलों में रिक्तियों का ब्योरा तुरंत तैयार कर एससीईआरटी में भेज दिया गया था। उसी के मुताबिक अतिरिक्त अभ्यर्थियों के प्रमाणपत्र भी वापस कर दिए गए। इसके बाद पात्र अभ्यर्थियों  की सूची बनाए जाते समय प्रमाणपत्रों की जांच में  कई अभ्यर्थी पात्र नहीं पाए गए। लिहाजा, इसकी वजह से भी रिक्तियों में घट-बढ़ हुई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती की तीसरी काउंसलिंग की कट ऑफ जारी