DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इबोला को लेकर बिहार में भी अलर्ट

अफ्रीकी देशों में सैकड़ों जाने ले चुके इबोला वायरस से बचाव के प्रति केंद्र और राज्य सरकार ने गंभीरता दिखाई है। केंद्र सरकार ने बिहार को इस वायरस के संदिग्ध मरीजों की जांच के लिए सौ जांच किट भेजे हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग बिहार के सचिव आनंद किशोर ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के पत्र की प्रति के साथ राज्य के सभी मेडिकल कॉलेज, आईजीआईएमएस, सिविल सर्जन तथा अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारियों को अलर्ट किया है।

अगर इबोला के मरीज मिलते हैं तो मरीज व उनके संपर्क में रहने वाले व्यक्तियों पर निगरानी रखते हुए प्रतिदिन की रिपोर्ट फार्मेट-बी में भरकर जिले के अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी सह जिला सर्वेक्षण पदाधिकारी को भेजने का निर्देश सचिव की तरफ से दिया गया है। इसकी एक प्रति राज्य स्वास्थ्य समिति पटना स्थित राज्य सर्वेक्षण इकाई को मेल करने को भी कहा गया है।

निदेशक प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं बिहार डॉ. आरडी रंजन के मुताबिक देश के 14 अस्पतालों में इबोला वार्ड बनाए जाने हैं। बिहार में अभी कोई मरीज नहीं पाया गया है। मरीज मिलने पर पीएमसीएच में स्पेशल वार्ड बनाने का प्रस्ताव है। केंद्र से आए जांच किट अभी स्वास्थ्य विभाग के गुलजारबाग स्थित डिपो में रखे गए हैं। अब तक कि रिपोर्ट के मुताबिक अफ्रीकी देशों में 10,114 लोग इससे पीड़ित हुए, जिनमें से 4912 की मौत हो चुकी है। इस वायरस के संक्रमण के लक्षण भी पुष्ट नहीं हैं। तपेदिक (टीबी) की तरह ही इसका वायरस पीड़ित व्यक्ति के थूक, खून तथा अन्य किसी भी प्रकार से संपर्क में आने से फैलता है। उत्तर प्रदेश में इबोला के एक संदिग्ध मरीज के मिलने की सूचना है। अफ्रीका में यह जानलेवा वायरस बहुत तेजी से फैल रहा है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इबोला को लेकर बिहार में भी अलर्ट