DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गायक बनना चाहते थे सदाशिव अमरापुरकर

गायक बनना चाहते थे सदाशिव अमरापुरकर

बॉलीवुड में अपनी लाजवाब खलनायकी के जरिये दर्शकों के दिलो में सिहरन भरने वाले सदाशिव अमरापुरकर दअरअसल गायक बनना चाहते थे। 11 मई 1950 को जन्मे सदाशिव अमरापुकर मूल नाम गणेशकुमार नरवाड़े का रूझान शुरूआती दौर में गायकी की ओर था हालांकि बाद में उन्होने अभिनेता बनने का निश्चय किया। सत्तर के दशक में सदाशिव ने नाटकों मे काम करना शुरू कर दिया। इस दौरान मराठी नाटक आमरस से वह अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।

वर्ष 1982 में सदाशिव अमरापुरकर जब हैंडस अप नामक नाटककर रहे थे इसी दौरान फिल्म निर्देशक गोविन्द निहलानी उनके अभिनय से बेहद प्रभावित हुये और उन्हे अपनी फिल्म अर्धसत्य में काम करने का प्रस्ताव दिया जिसे उन्हें सहर्ष स्वीकार कर लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गायक बनना चाहते थे सदाशिव अमरापुरकर