DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वनरक्षी की पिटाई के विरोध में ग्रामीणों ने पिकेट पर किया पथराव

बेतला के एक वनरक्षी नागेंद्र सिंह ,उसकी पत्नी एवं बच्चे को शनिवार रात बेतला पिकेट पुलिस ने लाठियों से पीटा। पुलिस की पिटाई से नागेंद्र के सिर में 22 टांके लगे हैं। इस घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने रात में पुलिस पिकेट का घेरावकर पथराव किया जिसमें पुलिस जवान बिन्देश्वरी सिंह घायल हो गया।
रविवार को माले नेता कन्हाई सिंह के साथ घायल वनरक्षी पत्नी एवं बच्चे को लेकर थाने पहुंचा और घटना की शिकायत थाना प्रभारी धनंजय प्रसाद से की। वनरक्षी ने बताया कि उसकी ड्यूटी पलामू किला मेला में लगी थी। मेला संपन्न होने के बाद शाम 6:30 बजे वह अपनी पत्नी और दो बच्चे के साथ बेतला लौट रहा था। इसी दौरान पिकेट के सामने चापानल पर बच्चों को पानी पिलाने के लिए वह रुका। पिकेट के एक जवान ने रात में पानी पीने पर एतराज जताते हुए गाली- गलौज की। उसने प्रतिरोध किया तो तीन और जवान पिकेट से बाहर निकले और लाठी से उसे पीटने लगे। इस दौरान उसकी पत्नी और बच्चे ने बीच-बचाव की कोशिश की तो उनकी भी पिटाई की गई।

वनरक्षी को उग्रवादी घोषित करने की थी तैयारी
बेतला पिकेट के जवान जब वनरक्षी नागेंद्र सिंह एवं उसकी पत्नी की पिटाई कर रहे थे,तो उनमे से एक जवान ने यह कहते हुए धमकी दे रहा था कि इसे गोली मार दो और हाथ में एक रायफल देकर उग्रवादी  घोषित कर दो। घायल वनरक्षी ने थाना प्रभारी को आपबीती घटना के जिक्र करते हुए ये बातें कहीं।

पुलिस के खिलाफ होगा आंदोलन: अध्यक्ष
बेतला वन विभाग के वेतन भोगी वनरक्षी नागेंद्र सिंह एवं उसकी पत्नी की पिटाई के खिलाफ झारखंड वन श्रमिक यूनियन के अध्यक्ष सिद्धनाथ झा ने आंदोलन छेड़ने की बात कही है। उन्होंने कहा कि पिकेट की पुलिस की यह घटना निंदनीय है। पुलिस के खिलाफ चरणबद्ध आन्दोलन छेड़ा जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वनरक्षी की पिटाई के विरोध में ग्रामीणों ने पिकेट पर किया पथराव