DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शाहजहांपुर में भीषण हादसे में सात लोगों की मौत

लखनऊ-दिल्ली हाइवे पर चकभिटारा गांव के पास रविवार दोपहर सीतापुर जा रहे एक ट्रक ने सवारियों से लदे टेंपो को रौंद दिया। हादसा इतना भीषण था कि सात लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जब कि सात अन्य घायल हो गए। छह को जिला अस्पातल में भर्ती कराया गया है। मरने वालों में देवरानी और जेठानी भी शामिल हैं। हादसे के बाद ट्रक ड्राइवर ने भागने की कोशिश की मगर आसपास के ग्रामीणों ने उसे दबोच कर पुलिस के हवाले कर दिया।


रविवार दोपहर करीब बारह बजे बरेली से परचून का सामान लादकर एक ट्रक (यूपी 12 सी 9907 ) तेज रफ्तार से सीतापुर की तरफ जा रहा था। जेबीगंज से बीस सवारियों को ढूंस कर शाजहजहांपुर आ रहा एक टेंपो ज्यों ही चकभिटारा गांव के पास डाइवजर्न पर पहुंचा सामने से बेकाबू ट्रक आ गया। इससे पहले कि टेंपो चालक संभलता असंतुलित ट्रक ने उसे रौंद दिया। हादसा होते ही चारों तरफ लाशें छितरा गईं। घायलों की चीखपुकार सुनकर आस-पास के ग्रामीण मदद को दौड़ पड़े। उधर, ट्रक ड्राइवर राशिद मौका देखते ही भागने लगा तो लोगों ने उसे दबोच कर धुन दिया। वह मुजफ्फरनगर के मुरैना इलाके के गांव रसूलपुर द्विवेदी का रहने वाला है। कुछ लोगों ने पुलिस को सूचना दी और घायलों को अस्पताल पहुंचाने का इंतजाम किया।

इनकी गई जान
हादसे में रोजा के रजाैआ गांव की रामबेटी, सुमित्र देवी, सुशीला, तिलहर के गुलामखेड़ा गांव के सोनू, हरदोई के पिहानी इलाके के जाजूपारा गांव के प्रकाश, रमापुर ननकारी की महेश्वरी देवी समेत सात लोगों ने मौके पर दम तोड़ दिया। हादसे में मरने वालों में सुमित्र देवी और सुशीला देवरानी-जेठानी हैं।

ये ग्रामीण हैं घायल
रजाैआ के कमलेश, तिलहर के गुलामखेड़ा गांव के देशराज और उनका दस साल का बेटा अनुज, हरदोई पाली निवासी मैना और उनके बेटे रजत समेत सात लोग जख्मी हो गए।
घटना के बाद ही क्यों?
हादसे के बाद जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने सभी थानाध्यक्षों को निर्देश दिया कि ओवरलोड सवारियों वाले वाहनों को सीज कर दिया जाएं। हमेशा हादसे के बाद जागने वाली पुलिस ने इसके बाद बीस वाहनों को सीज रश्मअदायगी की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शाहजहांपुर में भीषण हादसे में सात लोगों की मौत