DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेल सफर के दौरान लूट में तिगुनी और दुष्कर्म में दोगुनी बढ़ोतरी

रेलों में यात्रियों की सुरक्षा के इंतजाम सवालों के घेरे में हैं। रेल मंत्रालय के हाल में जारी आंकड़े भी इसकी पुष्टि करते हैं। सामने आया कि पिछले पांच सालों के दौरान रेलों में महिलाओं से दुष्कर्म की घटनाएं दोगुना बढ़ गई हैं। जबकि चोरियां 70 फीसदी और डकैती की वारदातों में तीन गुना तक वृद्धि हुई है।

200 से ज्यादा हत्याएं प्रतिवर्ष: रेल मंत्रालय के जारी आंकड़ों ने लंबे समय से यात्रियों की सुरक्षा को लेकर कोताही बरते जाने जैसे आरोपों पर मुहर लगा दी है। इन आंकड़ों के अनुसार, ट्रेनों में प्रतिवर्ष 200 लोगों की हत्या हो जाती है।

जवानों की तैनाती तक नहीं: 2003 में आरपीएफ ने 25 हजार जवानों की भर्ती की मांग की थी, लेकिन सिर्फ पांच हजार जवानों की भर्ती के लिए मंजूरी मिली। हालांकि उनकी भी तैनाती नहीं हो सकी।

लगातार जारी रही लापरवाही : वर्ष 2009 में रेलवे ने यात्रियों की सहायता के लिए आरपीएफ हेल्पलाइन शुरू
करने का ऐलान किया। लेकिन कुछ नहीं हुआ। 2012 में हेल्पलाइन नंबर 135 शुरू करने की घोषणा तो की पर शुरू नहीं हुई।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रेल सफर के दौरान लूट में तिगुनी और दुष्कर्म में दोगुनी बढ़ोतरी