DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आगे-बढ़ो,आगे-बढ़ो, आगे-बढ़ो कहते रहे अधिकारी और पीछे भागते रहे सिपाही

किसानों के मुआवजे की मांग को लेकर युवा मोर्चा व ग्रामीणों द्वारा दिये गये धरना प्रदर्शन करने वालों के साथ पुलिस और प्रशासन के अधिकारी वार्ता करके जाम खुलवाने का प्रयास कर रहे थे। वहीं धरना देने वालों का कहना था कि जब तक डीएम नहीं आयेंगे वह यहां से नहीं हटेंगे। इस दौरान अधिकारियों ने युवा मोर्चा के पदाधिकारी व ग्रामीणों के साथ वार्ता कर रहे थे कि तभी किसी ने पत्थर फेंक दिया। इसी दौरान पुलिस ने भी लाठी छोड़ दी, फिर क्या था बैराज रोड़ पर पहले से ही तैयार उपद्रवियों ने पत्थर फेंकने के साथ ही डंडे चलाने शुरु कर दिये। इसे देख पुलिस के सिपाही पीछे की ओर भागते नजर आये।

इसे देख मौके पर डटे रहे एससी सिटी मनोज सोनकर, सीओ सिटी अनिल कुमार यादव,सीओ महावन राजेन्द्र सिंह आदि उपद्रवियों को रोकते रहे। इस दौरान सीओ सिटी व एसपी सिटी पुलिस कर्मियों को माईक से कहते रहे पीछे नहीं आगे बढ़ो, आगे आओ, रोको तो पुलिस के जवान आगे बढ़ते, लेकिन पथराव को देख कुछ एक दम पीछे भागने लगे, इससे उपद्रवियों से टक्कर ले रहे सिपाही पत्थर खाने के बाद भी जमने वालों के भी पैर उखाड दिये। इसी दौरान भीड़ में फंसे सीओ महावन राजेन्द्र सिंह यादव के सिर में गंभीर चोट आ गयी, तो इसके साथ ही अन्य पुलिसकर्मियों को भी पत्थर लग गये। इस दौरान लगा कि अधिकारी उपद्रवियों की ओर बढ़ रहे थे, जबकि कुछ सिपाही पीछे भागते रहे। तभी पथराव करने वालों के हौंसले और बढ़ गये।

दामोदरपुरा के दजर्न भर ग्रामीण महिला-पुरुष हुए हैं घायल
गोकुल बैराज पर धरना प्रदर्शन के मध्य उपद्रव के दौरान धरने स्थल पर बैठे ग्रामीणों में से भी करीब दामोदरपुरा के दजर्न भर से अधिक महिला, पुरुष,युवा व बच्चे घायल हो गये। वहीं दूसरी ओर आधा दजर्न से अधिक पुलिस अधिकारी व सिपाही घायल हो गये।

पुलिस कर्मियों में घायल व चुटैल
उपद्रव के दौरान सीओ महावन राजेन्द्र कुमार यादव, कोतवाली प्रभारी कुंवर सिंह यादव, सिपाही समुद्र सिंह, सिपाही पीएसी बलवीर मीना गंभीर घायल हो गये, उन्हें अग्रवाल लाइन लाइन में भर्ती कराया। इसके अलावा एसपी सिटी मनोज सोनकर, सीओ सिटी अनिल कुमार यादव, एसओ सदर बाजार प्रदीप कुमार पांडेय, एसओ रिफाइनरी महेश यादव, एसओ हाईवे सुरेन्द्र सिंह,एसओ महावन अखिलेश त्रिपाठी आदि मामूली चुटैल हो गये।  

अच्छे से उपचार करें, पैसे की चिंता न करें
गोकुल बैराज पर मुआवजे की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन के दौरान हुए उपद्रव में सीओ समेत आधा दजर्न पुलिस कर्मी घायल हो गये, उन्हें उपचार को अग्रवाल लाइफ लाइन में भर्ती कराया गया था। घायल सीओ राजेन्द्र यादव समेत सभी पुलिस कर्मियों को आईजी आगरा सुनील कुमार गुप्ता, डीआईजी लक्ष्मी सिंह, डीएम राजेश कुमार, एसएसपी मंजिल सैनी, एडीएम वित्त एवं राजस्व धीरेन्द्र सिंह सचान अस्पताल देखने पहुंचे। इस दौरान आईजी श्री गुप्ता ने घायलों के हालचाल जानकर हॉस्पिटल प्रबंधन से कहा कि वह सभी घायल पुलिस कर्मियों का अच्छे से उपचार करें, प्राइवेट रुम में रखें, उपचार पर होने वाले खर्चे की चिंता न करें, जो भी खर्चा आयेगा, उन्हें वह देंगे।

डीएम-एसएसपी ने न्यूरो सजर्न से की जानकारी
उपद्रव के दौरान गंभीर रूप से घायल सीओ महावन राजेन्द्र यादव व सिपाही समुद्र सिंह के सिर व माथे में गंभीर चोट आयी थी, उनका सीटी भी कराया गया। उनकी हालत को देख चिंतित डीएम राजेश कुमार व एसएसपी मंजिल सैनी ने हॉस्पिटल के एमडी डा. पवन अग्रवाल के साथ ही न्यूरो सजर्न से उनकी रिपोर्ट की स्थिति की जानकारी की। इस दौरान चिकित्सकों ने बताया कि चोट है लेकिन खतरे की कोई बात नहीं है। तब जाकर दोनों अधिकारियों ने सकून महसूस किया।


तो पहले से ही कर रखी थी क्या पथराव की व्यवस्था

उपद्रव की सूचना के बाद मौके पर यातायात सप्ताह के शुभारंभ करने पहुंची एसएसपी मंजिल सैनी तत्काल मौके पर पहुंची। उसके बाद जिलाधिकारी राजेश कुमार भी पहुंच गये। पुलिस के साथ एसएसपी-डीएम ने जब पुलिस बल के साथ मार्च किया तो गोकुल बैराज कंट्रोल रूम के समीप स्थित एक लकड़ी के खोखे के समीप करीब सैकड़ों की संख्या में ईंटों के टूटे हुए टुकडें पड़े थे। जो संभावना है कि घटना से पूर्व ही तोड़े गये थे। इससे प्रतीत हो रहा था कि उपद्रवियों की पहले से ही पथराव की प्लानिंग तो नहीं थी। एसएसपी ने कहा कि अरे कितनी ईंटे टूटी पड़ी है, इन्हें हटवाया गया। इसके बाद डीएम, एसएसपी, एसपी सिटी, सीओ सिटी,एसपी आरए शगुन गौतम पीएसी की प्लाटून के साथ गोकुल बैराज के कंट्रोल रूम का निरीक्षण करने के बाद बैराज के एंड तक मार्च किया। इसी दौरान आईजी व डीआईजी भी वहां पहुंच गयीं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आगे-बढ़ो,आगे-बढ़ो, आगे-बढ़ो कहते रहे अधिकारी और पीछे भागते रहे सिपाही