DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुमाऊं से कैलाश मानसरोवर के मार्ग को बनाएंगे सुगम

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा है कि सरकार जमरानी बांध के निर्माण को पूरी तरह गंभीर है। मामले में यूपी के सीएम अखिलेश यादव से इसी माह वार्ता तय है। उन्होंने कहा कि मदमहेश्वर की तर्ज पर जागेश्वर धाम को भी धार्मिक पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित किया जाएगा। कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए सिक्किम का नया रूट हमारे लिए चुनौती है। कुमाऊं के रास्ते को सुगम बनाने के ठोस प्रयास किए जा रहे हैं।

रावत शनिवार को वोट हाउस क्लब में पत्रकारों से वार्ता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जमरानी बांध तराई-भाबर की जरूरत है। इसका निर्माण हर हालत में शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि दोनों प्रदेशों की वार्ता में मामले का हल नहीं निकला तो यहां छोटे स्तर के बांध के लिए प्रयास शुरू किए जाएंगे। उन्होंने प्रदेश में इको टूरिज्म को बढ़ावा देने की जिम्मेदारी वन विभाग को सौंपी है।

उन्होंने बताया कि 6 नए पर्यटन सर्किट बनने के साथ ही ऐसे 10 सर्किटों में काम हो रहा है। कैलाश मानसरोवर के पैदल मार्ग में जहां संभव होगा मोटर मार्ग बनाए जाएंगे। इन मार्गो में हैलीकाप्टर से छोटे वाहन पहुंचाए जाएंगे। सीएम ने कहा कि कोसी व पनार के जलागम क्षेत्र में  एक लाख तालतलैया बनाने का लक्ष्य रखा गया है। ग्रामीण क्षेत्र में अपने खेतों में फलदार व चारा प्रजाति के पेड़ लगाने वालों को तीन साल बाद एक बार 300 रुपये प्रति पेड़ की दर से बोनस दिया जाएगा। कहा कि नैनीताल व मसूरी उनकी प्राथमिकता में शुमार है यहां के विकास के लिए लगातार मॉनीटरिंग की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कुमाऊं से कैलाश मानसरोवर के मार्ग को बनाएंगे सुगम