DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेना के मेजर के परिवार का इकलौता चिराग था सौरभ

सरायमोहन गांव निवासी सेना के मेजर विनय राय के परिवार का सौरभ राय इकलौता चिराग था। घर का चिराग बुझने की खबर सुनते ही सरायमोहन गांव में कोहराम मच गया। इकलौते बेटे की मौत से सीमा राय रोते-रोते अचेत हो गई।

बरदह थाना क्षेत्र के सरायमोहन गांव निवासी विनय राय आगरा में आर्मी के मेजर पद पर तैनात हैं। उनके दो पुत्रियों में सबसे बड़ी रागिनी और लकी राय है। सबसे छोटा पुत्र सौरभ राय था। बड़ी बेटी रागिनी की शादी हो चुकी है। छोटी बेटी लकी बीएससी की छात्र है। इकलौता बेटा सौरभ जाैनपुर जिले में स्थित सेंट जोजफ स्कूल में 11 वीं कक्षा में पढ़ता था। रोज की भांति शुक्रवार को भी घर से बरदह बाजार में कोचिंग पढ़ने के लिए जा रहा था। इस दौरान गांव के नौशाद और गोलू बाइक से चौकी गांव स्थित पेट्रोल पंप पर डीजल लेने आ रहे थे। कोचिंग जाने के लिए सौरभ भी नौशाद की बाइक पर सवार हो गया। इस बीच लगभग चार बजे चौकी गांव के पास पहुंचते ही तीनों बोलेरों से भिड़ गए। पुलिस ने घायल नौशाद, गोलू के साथ ही मौत के बाद भी छात्र सौरभ को भी जाैनपुर जिला अस्पताल के लिए भेजवा दिया। इधर इकलौते बेटे सौरभ की मौत की खबर सुनते ही मेजर विनय राय के परिवार में कोहराम मच गया। देर शाम तक जाैनपुर से शव न लौटने पर सरामोहन गांव में चीख-पुकार मची रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सेना के मेजर के परिवार का इकलौता चिराग था सौरभ