DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छह दिन बीतने के बाद अचानक फिर गरमाया माहौल

बवाल के छह दिन बाद अचानक फिर माहौल गरमा गया और बवाल की आग भड़कते-भड़कते रह गई। दो अलग-अलग वर्गो के बीच हुई इस मारपीट से शहर का माहौल बिगड़ने ही वाला था कि सूचना पर अलर्ट हुई पुलिस के अफसर फोर्स समेत मौके पर पहुंच गए। जाम लगाने का प्रयास किया जा रहा था, लेकिन किसी तरह लोगों को समझा बुझाकर शांत करा दिया गया। मुकदमा दर्ज होने के बाद स्थिति पर पूरी तरह से कंट्रोल होने का दावा किया गया है।
शहर में बवाल की आग अभी पूरी तरह से ठंडी भी नहीं हुई थी कि अचानक फिर शहर में ऐसी ही दोबारा नौबत आने के चांसेस शुरू हो गए थे। दरअसल दो अलग-अलग वर्गो के लेागों के बीच मारपीट हो गई और गोली चल गई। विवाद इस कदर बढ़ गया कि एक पक्ष के व्यक्ति को गंभीर रूप से घायल कर दिया। जैसे ही घटना की सूचना आंधी की तरह शहर में फैली एक विशेष समुदाय को लेकर रोषित हो उठे। उन्होंने जाम लगाने का भी प्रयास किया, भारी फोर्स पहुंचने के बाद मामले को ठंडा कर दिया गया। एक बार फिर तब माहौल गरमाया, जब घायल रियाज को उसकी मां अस्पताल ले जा रही थी। उस वक्त कुछ लड़कों ने अभद्र भाषा का प्रयोग कर दिया। उसके बाद काफी संख्या में युवक पहले चौकी और फिर कोतवाली पहुंच गए। यहां उन्होंने मुकदमा दर्ज कर लिया और फिर लोगों का गुस्सा ठंडा हुआ।

इनसेट------
पुलिस और दूसरे पक्ष के लोगों ने फंसाया है हमें!
-मारपीट में आरोपी बने वरुण गांधी यूथ ब्रिगेड के जिला अध्यक्ष प्रदीप शर्मा ने पुलिस पर एक पक्षीय कार्रवाई का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि मारपीट के मामले में वो लोग कतई शामिल नहीं है, उन्हें रंजिशन फंसाया जा रहा है। जबकि मारपीट की सूचना खुद उन्होंने पुलिस को दी, लेकिन उसके बावजूद उन्हें इस मामले में फंसाया गया है। प्रदीप शर्मा ने बताया कि मारपीट की घटना उनके घर से काफी दूरी पर हुई थी। कुछ लड़के सिगरेट पी रहे थे, जिनके पास असलहे भी थे। जब उनकी हरकतों से परेशान होकर मोहल्ले वालों ने एतराज किया तो लड़कों ने उनसे नोकझाेक शुरू कर दी। भीड़ गुस्सा गई और फिर युवकों को पीट दिया गया। इस दौरान उन्हीं युवकों ने फायरिंग की थी। विवाद बढ़ न जाए, इसलिए उन्होंने खुद ही पहले नौरंगाबाद चौकी इंचार्ज को फोन किया, जब उन्होंने अनसुना किया तो सीओ सिटी को कॉल की, लेकिन वहां भी से भी सही रिस्पोंस नहीं आया और फिर उन्होंने एलआईयू को सूचित कर दिया। बीते दिनों एक पक्षीय कार्रवाई पर विरोध के स्वर तेज करने के कारण उन्हें फंसाया गया है। उन्हें डर है कि कहीं उनके परिवार को भी नुकसान न पहुंचा दिया जाए। लिहाजा वो पुलिस की इस कार्रवाई से रोषित हैं और न्याय की मांग करते हैं।

इनसेट------
-कोई एक पक्षीय कार्रवाई नहीं की जा रही है। जो तहरीर लेकर आया है, उसकी ओर से मुकदमा दर्ज किया गया है। मारपीट करने में चार लोग आरोपी है, उनको पकड़ने के लिए दबिशें दी जाएंगी। उनके पास फोन आया था, लेकिन मारपीट के बीस से तीस मिनट बाद। फौरन कोई सूचना नहीं दी गई। इस मामले में कार्रवाई की जा रही है।
-सिद्धार्थ वर्मा, सीओ सिटी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छह दिन बीतने के बाद अचानक फिर गरमाया माहौल