DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंजाब में बंद का मिलाजुला असर

1984 में हुये सिख विरोधी दंगों के खिलाफ दो छात्र संगठनों द्वारा किये गये राज्यव्यापी बंद के आह्वान का शनिवार को मिलाजुला असर देखने को मिला और कुछ स्थानों पर रेल और सड़क यातायात आंशिक रूप से प्रभावित हुआ।

पुलिस ने बताया कि ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट फेडरेशन (एआईएसएसएफ) और सिख स्टूडेंट फेडरेशन (एसएसएफ) के सदस्य सुबह लुधियाना के गुरुद्वारा दुख निवारण के निकट रेल पटरी पर एकत्र हुये और लगभग पांच घंटे तक वहां जमे रहे। उन्होंने बताया कि इससे शताब्दी एक्सप्रेस, शान—ए—पंजाब, कटियार एक्सप्रेस और जनसेवा एक्सप्रेस सहित कुछ ट्रेनों का परिचालन कुछ घंटों तक प्रभावित रहा।

लुधियाना पुलिस आयुक्त प्रमोद भान ने बताया कि किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है और स्थिति नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि एहतियाती उपाय के तौर पर पूरे राज्य में कई स्थानों पर भारी संख्या में पुलिस बलों को तैनात किया गया है।

इस बीच, एआईएसएसएफ अध्यक्ष करनैल सिंह पीरमोहम्मद को लगभग 50 लोगों के साथ अमृतसर में पुलिस ने उस समय गिरफ्तार कर लिया जब वह सड़क यातायात बाधित करने का प्रयास कर रहे थे। उन्होंने बताया कि कानून व्यवस्था नियंत्रित रखने के लिए पुलिस ने कुछ लोगों को एहतियातन हिरासत में लिया है। दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए सिख नरसंहार को आज 30 साल पूरे हो गये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंजाब में बंद का मिलाजुला असर