DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईसीसी होती तो भज्जी कचचो कचड़ी

आईपीएल 20-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में अब तक अपराजेय चेन्नई को शुक्रवार को यहां दिल्ली के खिलाफ जीत हासिल करने के लिए कड़ी परीक्षा से गुजरना होगा। चेन्नई को ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की अनुपस्थिति में नाकों चने चबाने पड़ सकते हैं। मैथ्यू हेडन और माइकल हसी के दमदार प्रदर्शन के दम पर मेजबान टीम अब तक अपराजेय रही है। अब ये दोनों खिलाड़ी वेस्ट इंडीज के खिलाफ दौर के लिए अपने देश चले गए हैं। हालांकि न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग हेडन की जगह भरने के लिए तैयार हैं। लेकिन ऑस्ट्रेलिया के हेडन और उनके हमवतन हसी तथा न्यूजीलैंड के जैकब ओरम के स्वदेश लौटने से इन खिलाड़ियों की भरपाई करना टीम के लिए मुश्किल होगा। चेन्नई ने अब तक खेले गए अपने सभी चारों मुकाबले जीते हैं। दिल्ली टीम ने चार में से तीन में जीत हासिल की है। मेजबान कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी भी इससे अच्छी तरह वाकिफ हैं। उनको भी लगता है कि उनकी टीम केविजय अभियान को कोई टीम रोक सकती है तो वह दिल्ली ही है। धोनी को भी इस मैच का बेसब्री से इंतजार है। धोनी का मानना है कि दिल्ली के खिलाफ कड़ा मुकाबला होगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली की टीम बहुत अच्छी और संतुलित है। उसके पास ग्लेन मैकग्रा और मोहम्मद आसिफ जैसे गेंदबाज हैं जो किसी भी मैच का रुख पलट सकते हैं। साथ ही उसके बल्लेबाज कप्तान विरंदर सहवाग, गौतम गंभीर और शिखर धवन भी अच्छी फार्म में हैं जो किसी भी गेंदबाजी आक्रमण की धज्जियां उड़ा सकते हैं। दिनेश कार्तिक को अपने मैदान पर अपनी टीम के खिलाफ खेलते देखना रोमांचक होगा। दिनेश दिल्ली टीम से खेल रहे हैं। संयोगवश कल कार्तिक की विवाह की वर्षगांठ भी है। इस खास दिन को वह मैदान पर किस तरह सेलीब्रेट करते हैं यह भी कम रोमाांचक नहीं होगा।ड्ढr धोनी की चिंता नाहक ही नहीं है। बेंगलूर के खिलाफ मिली रोमांचक जीत से दिल्ली के हौसले बुलंद हैं। उसके कप्तान सहवाग तो सेमीफाइनल में पहुंचने का दावा भी ठोक चुके हैं। इस मैच में गंभीर और धवन ने जिस तरह प्रतिद्वंद्वी टीम के गेंदबाजों की धुनाई की उसे देखकर कहा जा सकता है कि सहवाग के दावे में दम है। चेन्नई टीम को अपना विजय अभियान जारी रखने के लिए दिल्ली के खिलाफ एड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ेगा। हालांकि उसके बल्लेबाज कप्तान धोनी, पार्थिव और रैना अच्छी फार्म में हैं। लेकिन मैकग्रा जैसे तूफानी गेंदबाज के खिलाफ रन बनाना उनके लिए कड़ी चुनौती होगी। मेजबान टीम को अपने सफलतम गेंदबाज मनप्रीत गोनी की कमी खलेगी। गोनी ने अभी तक 1ओवर में 134 रन देकर सात विकेट लिए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आईसीसी होती तो भज्जी कचचो कचड़ी