DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऐश्वर्या ने दिलायी भारतीय फिल्मों को अंतराष्ट्रीय पहचान

ऐश्वर्या ने दिलायी भारतीय फिल्मों को अंतराष्ट्रीय पहचान

जन्मदिन के अवसर पर

ऐश्वर्या राय बॉलीवुड की उन चुनिंदा अभिनेत्रियों में एक हैं जिन्होंने फिल्मों में अभिनेत्रियों को महज शोपीस के तौर पर इस्तेमाल किये जाने की परंपरागत सोच को न सिर्फ बदला बल्कि बॉलीवुड को अंतराष्ट्रीय स्तर पर भी विशेष पहचान भी दिलायी।
     
ऐश्वर्या का जन्म 1 नवंबर 1973 को मैंगलोर में हुआ। कुछ वर्ष के बाद उनका परिवार मुंबई आ गया। जहां उन्होंने अपनी प्रांरभिक शिक्षा पूरी की। ऐश्वर्य की इच्छा वास्तुकार बनने की थी लेकिन बाद में उनका रूझान मॉडलिंग की ओर हो गया।
     
वर्ष 1994 में ऐश्वर्या ने मिस इंडिया प्रतियोगिता में हिस्सा लिया जहां उन्हें मिस इंडिया वर्ल्ड के खिताब से नवाजा गया। मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में भारतीय सुंदरता का परचम पूरी दुनिया में लहराते हुये रीता फारिया के बाद मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली वह दूसरी भारतीय सुंदरी बनीं। इस प्रतियोगिता में उन्हें मिस फोटोजेनिक के खिताब से भी नवाजा गया। प्रतियोगिता में जीत हासिल करने के बाद ऐश्वर्या ने सामाजिक सरोकार से जुड़े कई क्षेत्रों में काम किया और इस दौरान उन्हें कई राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय संगठनों के साथ काम करने का मौका मिला।
        
वर्ष 1997 में ऐश्वर्या ने अपने सिने करियर की शुरुआत तमिल फिल्म 'रूअर' से की। इसी वर्ष ऐश्वर्या ने बॉलीवुड में भी कदम रखा और बॉबी देओल के साथ 'और प्यार हो गया' में काम किया। दुर्भाग्य से यह फिल्म टिकट खिड़की पर विफल साबित हुई। इसके बाद 1998 में ऐश्वर्या ने एस.शंकर की तमिल फिल्म 'जीन्स' में काम किया। इस फिल्म की व्यावसायिक सफलता के बाद वह फिल्म इंडस्ट्री में कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गयी।

वर्ष 1999 में संजय लीला भंसाली की फिल्म 'हम दिल दे चुके सनम' ऐश्वर्या राय के सिने करियर की महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुई। सलमान खान और अजय देवगन जैसे मंझे हुये सितारे की मौजूदगी में भी ऐश्वर्या ने फिल्म में नंदिनी के किरदार को रूपहले पर्दे पर जीवंत कर दिया। इस फिल्म में दमदार अभिनय के लिये उन्हें फिल्म फेयर पुरस्कार से नवाजा गया।
     
वर्ष 1999 में ही ऐश्वर्या को प्रसिद्ध निर्माता निर्देशक सुभाष घई की फिल्म 'ताल' में काम करने का अवसर मिला। फिल्म में ऐश्वर्या ने एक ऐसी ग्रामीण लड़की 'मानसी' का किरदार निभाया जो पॉप सिंगर बनने का सपना देखा करती है। इस फिल्म ने खासकर अमेरिका में टॉप 20 फिल्मों में अपना नाम दर्ज कराया। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये भी नामांकित की गयीं।
     
वर्ष 2000 ऐश्वर्या के सिने करियर के लिये अहम वर्ष साबित हुआ। इस वर्ष उनकी फिल्म 'जोश' प्रदर्शित हुई जिसमें उन्होंने शाहरुख खान की बहन की भूमिका निभायी। इसके साथ ही ऐश्वर्या की 'हमारा दिल आपके पास है' और 'मोहब्बतें' जैसी कामयाब फिल्में भी प्रदर्शित हुई।
     
वर्ष 2002 में ऐश्वर्या को शरत चंद्र चट्टोपाध्याय के मशहूर उपन्यास 'देवदास' पर बनी संजय लीला भंसाली की इसी नाम से बनी फिल्म में काम करने का अवसर मिला। ऐश्वर्या ने फिल्म में 'पारो' के अपने किरदार से दर्शकों का दिल जीत लिया। इस फिल्म के लिये दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की गयी। इस फिल्म को कांस फिल्म समारोह में विशेष स्क्रीनिंग के दौरान दिखाया गया। 
      
वर्ष 2003 में ऐश्वर्या ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रख दिया और फिल्म 'दिल का रिश्ता' का निर्माण किया लेकिन यह फिल्म व्यावसायिक रूप से सफल नहीं रही। वर्ष 2004 में ऐश्वर्या राय को गुरिन्दर चड्ढा की अंग्रेजी फिल्म 'प्राइड एंड प्रीजुडिस' और राज कुमार संतोषी की फिल्म 'खाकी' में सुपरस्टार अमिताभ बच्चन के साथ काम करने का अवसर मिला। फिल्म में ऐश्वर्या ने अपने सिने करियर में पहली बार नेगेटिव किरदार  निभाया जो सिने दर्शकों को काफी पसंद आया।        
     
वर्ष 2004 ऐश्वर्या के सिने करियर का उपलब्धियों वाला वर्ष साबित हुआ। उस वर्ष उनके ऐश्वर्य को देखते हुये लंदन के सुप्रसिद्ध मैडम तुसाद म्यूजियम में उनका मोम का पुतला लगाया गया। इसी साल अमरीका की सुप्रसिद्ध पत्रिका टाइम मैगजीन ने विश्व की 100 प्रभावशाली हस्तियों में ऐश्वर्या राय का नाम शामिल किया।
      
वर्ष 2006 में ही ऐश्वर्या ने यशराज बैनर तले बनी फिल्म 'धूम' के सीक्वेल 'धूम 2' में काम किया। इस फिल्म में उन्होंने ने एक बार फिर नकारात्मक किरदार निभाया और दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। वर्ष 2009 में फिल्म क्षेत्र में ऐश्वर्या राय के उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये उन्हें पदमश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
       
अभिषेक बच्चन के साथ शादी के बाद अपने पारिवारिक दायित्व को देखते हुये ऐश्वर्या ने फिल्मों में काम करना काफी कम कर दिया। उन्होंने अंतिम बार संजय लीला भंसाली की ही वर्ष 2010 में प्रदर्शित फिल्म 'गुजारिश' में रितिक रोशन के साथ अभिनय किया था। ऐश्वर्या अब फिल्म 'जज्बा' के जरिये इंडस्ट्री में कमबैक करने जा रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऐश्वर्या ने दिलायी भारतीय फिल्मों को अंतराष्ट्रीय पहचान