DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेंसेक्स, निफ्टी में 3 फीसदी से ज्यादा तेजी (साप्ताहिक समीक्षा)

सेंसेक्स, निफ्टी में 3 फीसदी से ज्यादा तेजी (साप्ताहिक समीक्षा)

देश के शेयर बाजारों में पिछले सप्ताह प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी में साढ़े तीन फीसदी से अधिक तेजी रही। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सप्ताह 3.78 फीसदी या 1,014.78 अंकों की तेजी के साथ शुक्रवार को 27,865.83 पर बंद हुआ।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 3.84 फीसदी या 307.65 अंकों की तेजी के साथ 8,322.20 पर बंद हुआ। सेंसेक्स के 30 शेयरों में से पिछले सप्ताह 27 में तेजी रही। गेल (10.07 फीसदी), हिंडाल्को इंडस्ट्रीज (9.27 फीसदी), एचडीएफसी (7.19 फीसदी), टाटा स्टील (6.61 फीसदी) और भेल (6.54 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

सेंसेक्स में तीन शेयरों भारती एयरटेल (3.05 फीसदी), हिंदुस्तान यूनिलीवर (2.58 फीसदी) और हीरो मोटोकॉर्प (1.78 फीसदी) में गिरावट रही। गत सप्ताह मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी तेजी रही। मिडकैप 1.67 फीसदी या 161.57 अंकों की तेजी के साथ 9,834.60 पर और स्मॉलकैप 2.52 फीसदी या 268.3 अंकों की तेजी के साथ 10,930.95 पर बंद हुआ।

गत सप्ताह गुरुवार और शुक्रवार को सेंसेक्स और निफ्टी ने अपने जीवन काल का ऐतिहासिक उच्च स्तर छुआ तथा दोनों सूचकांक शुक्रवार को अपने जीवनकाल के ऐतिहासिक उच्च स्तर पर बंद भी हुए। सेंसेक्स गुरुवार को भी अपने जीवनकाल के ऐतिहासिक उच्च स्तर पर बंद हुआ था।

शुक्रवार को सेंसेक्स ने 27,894.32 के अपने रिकार्ड ऊपरी स्तर को और निफ्टी ने भी 8,330.75 के अपने रिकार्ड ऊपरी स्तर को छुआ। आर्थिक घटनाक्रमों में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार 29 अक्टूबर को संपत्ति विकास और निर्माण क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को उदार और सरल कर दिया। सरकार ने निर्माण क्षेत्र स्वचालित मार्ग से 100 फीसदी एफडीआई निवेश को अनुमति देने का फैसला किया।

अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की नीति निर्मात्री समिति फेडरल ओपेन मार्केट कमीटी (एफओएमसी) ने बुधवार को ही बांड खरीदारी का अपना मासिक कार्यक्रम पूरी तरह से बंद कर देने का फैसला किया। फेड ने साथ ही अमेरिका के आर्थिक विकास की सततता में भी अपना भरोसा जताया, चाहे भले ही दुनिया के कई अन्य विकसित क्षेत्रों में कारोबारी सुस्ती दिखाई पड़ रही हो।

इसी बीच बैंक ऑफ जापान (बीओजे) की नीतिगत फैसला लेने वाले बोर्ड ने शुक्रवार 31 अक्टूबर को अपने क्वांटिटेटिव ईजिंग कार्यक्रम की गति बढ़ाने का फैसला कर लिया। इसके तहत बीओजे जापान के सरकारी बांड की खरीदारी का आकार बढ़ाकर सालाना करीब 80,000 अरब येन (727 अरब डॉलर) कर देगा। यह पहले के मुकाबले 30,000 अरब येन अधिक है।

बीओजे ने साथ ही यह भी कहा कि वह एक्सचेंज ट्रेडेड फंड और रियल-एस्टेट निवेश ट्रस्टों की खरीदारी की गति तीन गुनी कर देगा। बैंक ने साथ ही कहा कि तथा कथित क्वांटिटेटिव इंजिंग कार्यक्रम तब तक चलता रहेगा, जब तक जरूरी हो।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सेंसेक्स, निफ्टी में 3 फीसदी से ज्यादा तेजी