DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तो भाजपा ने बनाई सरकार!

र्नाटक विधानसभा चुनाव में जमीनी हकीकत जो भी हो, लेकिन भाजपा ने अपना अंदरूनी चुनावी सर्वेक्षण कर अपनी सरकार बना ली है। वह इस बात से भी बेपरवाह है कि एक टीवी चैनल के चुनावी सर्वेक्षण में उसे लगभग 61 सीट मिलती बताई गई हैं। उसने अपने अंदरूनी सर्वेक्षण को प्रामणिक बताया है, जबकि दूसर सर्वेक्षण को यह कहते हुये झुठला दिया है कि गुजरात में भी चैनलों और दूसरी एजेन्सियों ने भाजपा को सत्ता से बाहर कर दिया था। कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य और पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष वेंकैया नायडू ने ‘हिन्दुस्तान’को बताया कि सव्रेक्षणों से चुनाव नहीं जीता जाता है। अतीत में गुजरात से लेकर उत्तर प्रदेश तक में सव्रेक्षण झूठे साबित हुये हैं। विपरीत इसके उन्होंने बताया कि पार्टी द्वारा कराये गये सव्रेक्षण में पार्टी को पूर्ण बहुमत मिल रहा है। पार्टी के सर्वेक्षण में भाजपा को 12ांग्रेस को 64 और जेडीएस को मात्र 20 सीटें मिलती बताई गई हैं। सव्रेक्षण जीत हार की जो भी कहानी बयां कर रहे हों, लेकिन भाजपा के लिये जेडीयू के साथ नौ साल पुराने गठबंधन के टूटने से बड़ा धक्का लगा है। इसीलिये नई रणनीति के तहत उसने पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवगौड़ा के नेतृत्व वाले जेडीएस के प्रति अपना रवैया नरम ही रखा है, ताकि बहुमत न मिलने की स्थिति में गठबंधन सरकार बनाने के लिये वह जेडीएस से हाथ मिला सके।ड्ढr यह बात दीगर है कि जेडीएस के साथ उसका पुराना अनुभव अच्छा नहीं रहा है। इस सोच से साफ लग रहा है कि भाजपा के मन में कहीं खोट है कि उसे बहुमत नहीं मिलेगा। वहीं दूसरी ओर सांसद व पार्टी महासचिव अनंत कुमार का भीतरघात भी उसे नुकसान पहुंचा सकता है। टिकट वितरण में भी अनंत कुमार ने अपनी दखलंदाजी की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तो भाजपा ने बनाई सरकार!